प्रदेश में हुए कानपुर कांड के बाद से यूपी के हर जिले में एक्टिव हुई पुलिस अपराधियों पर कहर बनकर टूट रही है. पूरे प्रदेश में ताबड़तोड़ एनकाउंटर हो रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान भी मेरठ पुलिस का ऑपरेशन क्लीन जारी है. इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बीते चौबीस घंटे में यहां पुलिस और बदमाशों के बीच चार मुठभेड़ हुईं. जिसमें सात बदमाश गिरफ्तार हुए हैं. गिरफ्तार सभी आरोपी हिस्ट्रीशीटर रहे हैं और इनके ऊपर दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं.

कोरोना का साथ-साथ अपराध पर भी नियंत्रण

मेरठ के एसएसपी अजय साहनी का कहना है कि ये सभी अभियुक्त हिस्ट्रीशीटर रहे हैं. किसी पर 35 मुकदमें दर्ज हैं तो किसी पर 36. एसएसपी का कहना है कि कोरोना का साथ-साथ अपराध पर भी नियंत्रण करना है. उन्होंने कहा कि जनपद पुलिस, स्वाट टीम और क्राइम ब्रांच अलर्ट पर है. अगर कोई भी अपराधी पुलिस पर फायर करता है तो उसका जवाब दिया जाएगा. इसी जवाबी कार्रवाई में ही चार स्थानों पर मुठभेड़ हुई है जिसमें सात बदमाश गिरफ्तार किए गए हैं.

टॉप-3 अपराधी दीपक सिद्धू को किया था ढेर

मेरठ पुलिस ने इससे पहले बुधवार देर रात जिले टॉप-3 अपराधियों में शामिल 50 हजार का इनामी दीपक उर्फ़ सिद्धू को रोहटा में हुए एनकाउंटर में मार गिराया गया था. हालांकि इस दौरान उसका एक अन्य साथी मौके से फरार हो गया. पुलिस टीम को रोहटा इलाके में मिली कुछ बदमाशों के होने की सूचना मिली थी. इसके बाद पुलिस टीम ने घेराबंदी करते हुए उन्हें घेर लिया. इस बीच खुद को घिरा देखकर बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. इस दौरान एक बदमाश को गोली लगी जबकि उसका साथी मौके से फरार हो गया. मुठभेड़ के दौरान दरोगा अनुज कुमार को भी गोली लगी. घायल बदमाश दीपक को सीएचसी लाया गया, जहां से उसकी गंभीर हालत को देखते हुए मेरठ जिला अस्पताल रेफर किया गया. अस्पताल पहुंचते ही डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.