वीडियो वॉयरल होने के बाद डीआइजी ने थानेदार को किया सस्पेंड

लंबे समय से नर्वल थाने में “अंगद” की तरह “पांव जमाए” इंस्पेक्टर ने फरियाद लेकर पहुंची पीड़ित महिला से अमर्यादित ढंग से बातचीत की। सोशल मीडिया में कुछ लोगों ने इस वीडियो को वॉयरल कर दिया तो पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। हालांकि वीडियो में इंस्पेक्टर नहीं दिख रहे हैं लेकिन आवाज उनकी ही होने का दावा किया जा रहा है। नर्वल का थाना परिसर भी वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है। मामले को संज्ञान में लेकर डीआइजी डॉक्टर प्रीतिंदर सिंह ने नर्वल थानेदार को लाइन हाजिर कर दिया। 

खबरों के मुताबिक एक महिला जमीन के कब्जे की शिकायत थानेदार रामऔतार के पास लेकर पहुंची। थाने में दोनों ही पक्ष मौजूद थे। इसी दौरान महिला की शिकायत पर थानेदार दूसरे पक्ष को डांट-फटकार लगाते हुए सुनाई दे रहे हैं। बातचीत के दौरान ही थानेदार महिला से कह रहे हैं कि “इस बार आना तो ब्लाउज फाड़कर आना”। “फिर दुष्कर्म की धारा में मुकदमा दर्ज कर लूंगा”। थानेदार दूसरे पक्ष को गाली देते हुए अभद्र और अमर्यादित भाषा का भी प्रयोग कर रहे है।

इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो किसी ने बनाकर सोशल मीडिया पर वॉयरल कर दिया। डीआईजी प्रीतिंदर सिंह ने रामऔतार को लाइन हाजिर कर मामले की जांच के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि नर्वल थानेदार रामऔतार करीब दो साल से तैनात थे। कई बार उनके खिलाफ ग्रामीणों ने तमाम शिकायतें की लेकिन पूर्व एसएसपी का खास होने की वजह से कभी उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। उनकी अभद्रता से ग्रामीण परेशान थे। कुछ महीने पहले उन्होंने भाजपा नेता के भाई जालिमपुरवा गांव निवासी नीरज पाल को थाने बुलाकर पीटा था। मामले में भाजपाइयों ने तत्कालीन डीआईजी अनंत देव से शिकायत भी की थी। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई थी।