एक तरफ योगी सरकार जीतोड़ मेहनत करके लोगों का भरोसा जीत रही है, तो वहीं दूसरी तरफ चंद पुलिसकर्मियों के चलते शासन और प्रशासन की मेहनत पर पलीता लग रहा है। दरअसल, मामला यूपी के कन्नौज जिले का है, जहां का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर शेयर हो रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि कैसे एक पुलिस कर्मी ने अपनी गर्भवती पत्नी को ई-रिक्शा से अस्पताल ले जा रहे दिव्यांग व्यक्ति को सरेराह जलील किया और फिर थाने में लाकर भी पीटा। वीडियो सामने आते ही लोग इसकी काफी आलोचना कर रहे हैं।

ये है मामला

जानकारी के मुताबिक, दिव्यांग सुदीप कन्नौज के सौरिख में ई-रिक्शा चलाता है। सुदीप की पत्नी गर्भवती है। वे शुक्रवार को पत्नी को ई-रिक्शा पर बिठाकर अस्पताल चेकअप के लिए अस्पताल लेकर जा रहे थे। सदर बाजार पहुंचने पर उन्होंने कुछ खरीदने के लिए अपना ई-रिक्शा सड़क किनारे लगा दिया। आरोप है कि वहां ड्यूटी पर तैनात सिपाही किरन पाल ई-रिक्शा हटाने की बात कहकर उनसे गाली-गलौज करने लगा।

बात यहीं खत्म नहीं हुई। जब पीड़ित ने सिपाही को गाली ना देने की बात कही तो सिपाही का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया। सिपाही ने दिव्यांग को चौराहे पर ही लात-घूंसों से जमकर पीटा। पति को पिटता देख पत्नी सिपाही के आगे हाथ जोड़कर छोड़ने की गुहार लगाती रही। लेकिन सिपाही को दया नहीं आई।

वीडियो वायरल होने के बाद हुआ सस्पेंड

मारपीट के बाद सिपाही दिव्यांग को घसीटता हुआ कोतवाली ले गया। इसके बाद उसने दिव्यांग को धक्का देकर जमीन पर पटक दिया। थाने में मौजूद किसी व्यक्ति ने वीडियो बनाकर वायरल कर दिया। वीडियो को संज्ञान में लेकर एसपी तत्काल सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया। देर शाम सिपाही को निलंबित कर दिया गया।