शाहजहांपुर जिले के बंडा थाना क्षेत्र के कढ़ेर चौरा गांव में सोमवार सुबह हादसा हो गया। कार ने रोड किनारे बैठे तीन लोगों को रौंद दिया। बुजुर्ग और किशोर की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि तीसरे की हालत गंभीर बनी हुई है। गुस्साए ग्रामीणों ने कार में सवार लोगों को पीट दिया। चालक को थाने ले जाने के दौरान पुलिस से ग्रामीणों की नोकझोक हुई। कार चालक लखीमपुर के रहने वाले हैं। ग्रामीणों ने उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया है।

 

क्षेत्र के गांव नबावपुर पुक्खी निवासी ईश्वरी की उम्र तकरीबन 55 साल थी। सोमवार सुबह ईश्वरी शौच के लिए निकले थे। बिलसंडा मार्ग कढ़ेरचौरा गांव निवासी साले हरिराम का बेटा गुडडू व 12 वर्षीय बेटा रजनीश सड़क किनारे बैठे हुए थे। ईश्वरी रूके और बैठेकर दोनों से बातचीत करने लगे। उसी दौरान लखीमपुर खीरी के कस्बा तिकुनिया निवासी प्रेमचंद अग्रवाल अपनी पत्नी निशा , बेटी नेहा , दामाद वैभव जैन व उनकी तीन वर्षीय बेटी ताशू जैन के साथ दिल्ली से अपने घर कार से जा रहे थे। जैसे की कार कढ़ेर चौरा गांव के मुख्य चौराहे पर पहुंची। तभी लंबा सफर तय कर आ रहे चालक वैभव जैन की आंख लग गई। कार अनियंत्रित होकर सड़क किनारे बैठे ईश्वरी, गुड्डू व रजनीश को रौंदती हुई खाई में घुस गई। इस हादसे में ईश्वरी व रजनीश की मौके पर ही मौत हो गई। गुडडू घायल हो गया। गुस्साए ग्रामीणों ने सभी को पीट दिया। चालक को पुलिस के सुपुर्द कर दिया। सीएचसी पर प्राथमिक उपचार के बाद घायल गुडडू को मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया।

रिपोर्ट - @Shiva Nand Shukla