बस्ती – जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने स्वास्थ्य विभाग के निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया है कि नवनिर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुर, सगरा , मुसहां ,पकड़ी चंदा में डॉक्टर एवं अन्य स्टाफ तैनात कर कार्य शुरू कराये। कैंप कार्यालय में आयोजित निर्माण कार्यों की समीक्षा बैठक में उन्होंने पाया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुर, सगरा ,मुसहां ,पकड़ी चंदा के मुख्य भवन का निर्माण कार्य पूरा हो गया है। इसके अलावा हटवा बाजार पीएचसी का कार्य तेजी से कराते हुए पूरा करने का जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है। वर्ष 2018-19 में निर्माणाधीन 30 हेल्थ वेलनेस सेंटर में से 12 पूर्ण हो गए हैं तथा इन्हें विभाग को हस्तांतरित भी कर दिया गया है।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि अवशेष 18 सेंटर 05 नवंबर तक विभाग को हस्तगत कर दें। एमओआईसी अपने-अपने क्षेत्र के सभी हेल्थ वैलनेस सेंटर का निरीक्षण करके इसे क्रियाशील कराएं। उन्होंने सीएमओ को निर्देश दिया है कि जिले स्तर से भी अधिकारी भेजकर इन सेंटर का निरीक्षण कराएं। वर्ष 2019-20 में ग्रामीण अभियंत्रण विभाग द्वारा 78 हेल्थ वैलनेस सेंटर बनवाए जा रहे हैं। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि एनएचएम की गाइड लाइन के अनुसार निर्माण इकाई द्वारा जिला स्तरीय टास्क फोर्स से सभी निर्माणाधीन सेंटर का समय-समय पर निरीक्षण कराया जाए।

उन्होंने सल्टौवा में आवास विकास परिषद प्रतापगढ़ द्वारा बनवाए जा रहे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का 15 नवंबर तक कार्य पूरा कर स्वास्थ्य विभाग को हैंड ओवर करने का निर्देश दिया। उल्लेखनीय है कि इस सीएचसी के निर्माण के लिए शासन द्वारा शत-प्रतिशत धनराशि अवमुक्त कर दी गई है। जिलाधिकारी ने समीक्षा में पाया कि हरैया में 100 बेड का महिला अस्पताल का मुख्य भवन का निर्माण पूरा हो गया है। रंगाई-पुताई एवं वायरिंग का काम चल रहा है। इसे भी 15 नवंबर तक पूरा करके विभाग को हैंड ओवर करने का निर्देश दिया गया।

कार्यदायी संस्था सीएनडीएस के अधिशासी अभियंता ने बताया कि विद्युत विभाग के एस्टीमेट के अनुसार धनराशि दिए जाने के बावजूद अभी तक इस भवन के लिए विद्युत कनेक्शन नहीं किया गया है। विद्युत विभाग द्वारा जो स्टीमेट दिया गया है उसमें नए ट्रांसफार्मर का प्रावधान नहीं है। जिलाधिकारी ने इस संबंध में दोनों अधिशासी अभियंताओं को 02 दिन के भीतर प्रकरण को सुलझाते हुए रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है।

जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्थाओं को आगाह किया है कि प्रोजेक्ट एवं एस्टीमेट के अनुसार सभी कार्य पूरा करके ही भवन, विभाग को हस्तगत करें। रामपुर में पंप रूम, सोलर बैकअप, हैंड पंप, मिट्टी भराई का काम शेष है। सगरा में पंप रूम, सोलर बैकअप तथा हैंडपंप का कार्य अभी शुरू ही नहीं किया गया है। मूसा में चिकित्साधिकारी आवास, पंप रूम ,सोलर बैकअप ,हैंड पंप, का कार्य अनाआरंभ है। पकड़ी चंदा में भवन का कार्य पूर्ण है परंतु पंप रूम सोलर बैकअप हैंडपंप, मिट्टी भराई, चहारदीवारी का लगभग 50 प्रतिशत कार्य शेष है। यहां पर धनाभाव भी है। इसलिए कार्य को पूरा करने के लिए रिवाइज स्टीमेट तैयार किया जा रहा है। धन प्राप्त होने पर कार्य पूर्ण कराया जाएगा।

जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के सहायक अभियंता सतीश मिश्रा को निर्देश दिया कि वे नियमित रूप से सभी निर्माण कार्यों का निरीक्षण करते रहें तथा पाई गई कमियों को कार्यदायी संस्था से ठीक कराएं। इस संबंध में लिखित रूप में कार्यदायी संस्था को अवगत कराया जाए। उन्होंने कार्यदायी संस्था के अधिशासी अभियंताओं को निर्देश दिया कि कार्य पूर्ण होने तथा कमियों को दूर करने पर ही विभाग भवन को हस्तगत करेगा। इसमें किसी प्रकार की शिथिलता छम्य नहीं होगी।

बैठक का संचालन अर्थ एवं संख्या अधिकारी टीपी गुप्ता ने किया। बैठक में सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका, अपर सीएमओ डॉ० सीएल कनौजिया, कार्यदायी संस्था आवास विकास परिषद अयोध्या तथा प्रतापगढ़ तथा सीएनडीएस एवं यूपीआरएनएन के अधिशासी अभियंता गण उपस्थित रहे।

रिपोर्ट - सुशील शर्मा