@अभिजीत राणे

इवेंट में 500 लोगों को अनुमति दी जाए

इवेंट इंडस्ट्रीज पूरी तरह से धराशायी हो गई है। 

कई लाख लोगों को रोजगार देने वाली इवेंट इंडस्ट्री को आज मदद की जरूरत

लॉकडाउन के बाद से ही इवेंट मैनेजमेंट इंडस्ट्रीज पूरी तरह से धराशायी हो गई है। पर अब धड़क कामगार यूनियन इस इंडस्ट्री की मदद के लिए आगे आ गई है। अनुमान है कि पूरी मुंबई में सालभर में कम से कम 50 लाख करोड़ के विविध इवेंट होते हैं और लगभग 15 लाख लोग इससे सीधे जुड़े हैं। पर अब इवेंट मैनेजमेंट इंडस्ट्री अपने सबसे बुरे दौर में है। मार्च में लॉक डाउन के बाद से सब कुछ बंद है।

कोराना काल में इवेंट पूरी तरह बंद हो गए हैं। ऐसे में इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों, कैटरिंग व्यवसायियों, डेकोरेशन, ऑडियो विजुअल एक्सपर्ट, मैन पॉवर सप्लायर्स और लोकल आर्टिस्ट के सामने बड़ी चुनौतियां खड़ी हो गई हैं। वर्तमान में शासन ने केवल 100 लोगों के इकट्ठा होने की अनुमति दी है। ये अनुमति 500 लोगों के हिसाब से की जानी चाहिए। इस इंडस्ट्री को सहारा देने के लिए धड़क कामगार यूनियन की मांग है कि सरकार किसी भी इवेंट के लिए कम से कम 500 लोगों को हिस्सा लेने की अनुमति दे। ये देने की मांग धड़क कामगार यूनियन के एक प्रतिनिधिमंडल ने पूर्व मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीस जी से की है। इस दौरान प्रेजेंटेशन के जरिए यह बताया गया है कि इवेंट मैनेजमेंट कंपनियां किस तरह वे कोविड के मानकों का पालन करेंगी।