रिपोर्ट - संतोष मिश्र

बहराइच। आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र बहराइच प्रथम के सभागार में कृषि विभाग के सौजन्य तथा सहकारी संस्था अपराजिता सामाजिक समिति कैसरगंज के सहयोग से मिशन शक्ति अन्तर्गत महिला कृषक वैज्ञानिक संवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया।

कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए उप निदेशक कृषि डाॅ. आर.के. सिंह ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा चलाए गये अभियान के अंतर्गत महिला कृषकों के सशक्तिकरण के लिए महिला कृषक वैज्ञानिक संवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया है। डाॅ. सिंह ने कहा कि आयोजन का मुख्य उद्देश्य महिला कृषकों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाना है। उनहोंने कहा कि महिला सशक्तिकरण के उद्देश्य से कृषि प्रसार की गतिविधियों में महिलाओ की अधिकाधिक भागीदारी सुनिश्चित कराये जाने के साथ साथ अन्य योजनाओ में भी महिला कृषकों को जोड़कर योजनाओं के क्रियान्वयन पर बल दिया जा रहा है। डाॅ. सिंह ने महिला कृषकों का आहवान किया कि वे स्वयं भी जागरूक होकर सरकार द्वारा संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों का भरपूर लाभ उठायें। 

कृषि विज्ञान केन्द्र प्रभारी अधिकारी प्रो डाॅ. एम.पी. सिंह ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य महिलाओ को स्वावलम्बी बनाना है। उन्होंने बताया कि कृषि विज्ञान केन्द्र पर महिलाओं के लिए विभिन्न ट्रेनिंग कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। डाॅ. सिंह ने महिलाओं का आहवान किया कि आचार, मुरब्बा व पापड बनाने, सिलाई-बढ़ाई, वर्मी कम्पोस्ट तथा मशरूम उत्पादन जैसे प्रशिक्षण कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में प्रतिभाग कर अपनी आय में इज़ाफा कर परिवार को सहयोग प्रदान करें। उन्होंने कहा कि आज किसी भी क्षेत्र में महिलाएं पुरूषों से पीछे नहीं है। इसलिए उन्हें कृषि के क्षेत्र में भी आगे आकर खेती का कार्य करना चाहिए। 

जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय ने कहा कि खेती किसानी पर विस्तृत चर्चा करते हुए बताया कि एक कृषक किस प्रकार से खेती किसानी से अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकता है। उप निदेशक रेशम डाॅ. एस.बी. सिंह ने कृषक महिलाओं को रेशम पालन, डाॅ. शैलेन्द्र सिंह, डाॅ. रोहित पांडेय, वैज्ञानिक रेणु आर्या सहित अन्य अधिकारियों एवं वैज्ञानिकों द्वारा मौजूद महिला कृषकों को उपयोगी जानकारी प्रदान की गयी।