रिपोर्ट - संतोष मिश्र

बहराइच। प्रधानमंत्री स्वानिधि ऋण योजना की समीक्षा हेतु मंगलवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी शम्भु कुमार ऋण योजना की धीमी प्रगति पर असंतोष व्यक्त करते हुए सभी बैंकों को निर्देश दिया कि सम्बन्धित नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों के साथ समुचित समन्वय बनाते हुए प्रकरणों का त्वरित निस्तारण सुनिश्चित करें। 

ऋण योजना की समीक्षा के दौरान पाया गया कि 1107 आवेदन ऐसे हैं जिन्हें सम्बन्धित बैकों को द्वारा ससमय नहीं पहुॅचनें तथा अपेक्षित अभिलेख में कमी के कारण अस्वीकृत किया गया है। इस सम्बन्ध में श्री कुमार ने बैंकों को निर्देश दिया अस्वीकृत किये गये आवेदन-पत्रों का पुनरावलोकन कर अभ्यर्थियों से वांछित अभिलेख प्राप्त कर निस्तारण सुनिश्चित करें। 

जिलाधिकारी श्री कुमार ने कहा कि नगर क्षेत्रान्तर्गत कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक रूप से कमजोर हुए ठेला, पटरी, रेहड़ी, दुकानदारों को आत्म निर्भर बनाये जाने के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा स्वानिधि योजना के तहत 10 हजार रूपये का ऋण प्रदान किया जा रहा है। इसलिए सभी बैंक योजना से सम्बन्धित आवेदन-पत्रों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर उनके स्वीकृति की कार्यवाही करें। 

जिलाधिकारी ने सभी सम्बन्धित को निर्देश दिया कि प्रत्येक दशा में माह मार्च 2021 में ऋण वितरण हेतु निर्धारित लक्ष्य 4316 को पूर्ण करना सुनिश्चित करें। समीक्षा के दौरान पाया गया कि निर्धारित लक्ष्य 4316 के सापेक्ष अब तक 2056 प्रकरणों को स्वीकृत कर 1822 का वितरण किया गया है। यह स्थिति अन्य जनपदों के सापेक्ष ठीक न होने के कारण योजना के तहत जिले की रैंकिंग प्रभावित हुई है। श्री कुमार ने सभी बैंक प्रबन्धकों को इस स्थिति में सुधार लाये जाने के साथ-साथ लीड बैंक प्रबन्धक को बैंकवार व शाखावार समीक्षा करते रहने के निर्देश दिये। 

बैठक का संचालन लीड बैंक प्रबन्धक अमित गौरव ने किया। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी नानपारा सूरज पटेल आईएएस, सदर के सौरभ गंगवार आईएएस, परियोजना अधिकारी डूडा संजय कुमार सिंह, अधि.अधि. नगर पालिका परिषद बहराइच पवन कुमार व रिसिया के शैलेन्द्र मिश्रा सहित अन्य अधिकारी, बैंकों के जिला समन्वयक तथा शाखा प्रबन्धकगण मौजूद रहे।