पूरी तरह से यूपी पुलिस के डीजीपी बनने के बाद आईपीएस हितेश चन्द्र अवस्थी (Hitesh Chandra Awasthi) ने अपने सन्देश में जनता और सिपाहियों को शामिल रखा. उन्होंने ये साफ़ तौर पर स्पष्ट कर दिया जहां एक तरफ महिला सुरक्षा के लिए गश्त बढ़ाई जाएगी वहीँ बीट सिस्टम को भी और ज्यादा मजबूत बनाया जाएगा. ताकि कानून व्यवस्था में सुधार हो सके. वहीँ डीजीपी ने ये भी कहा है कि ऐसे धरना प्रदर्शन को कतई अनुमति नहीं दी जाएगी, जिससे आमजन को परेशानी हो.

लोगों का भरोसा जीतने की रहेगी कोशिश

तकरीबन एक महीने तक कार्यवाहक डीजीपी रहने के बाद आईपीएस हितेश चन्द्र अवस्थी (Hitesh Chandra Awasthi) को हाल ही में पूर्णकालिक डीजीपी बनाया गया. जिसके बाद उन्होंने अपना लक्ष्य क्लियर कर दिया. उन्होंने साफ़ तौर पर ये कहा है कि अपने पुलिस विभाग में वो किसी तरह का भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं करेंगे. जो भ्रष्टाचार करेगा उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी, फिर चाहे वो एक आईपीएस और या सिपाही.

डीजीपी ने ये भी कहा कि महिलाओं को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने के लिए सड़कों और प्रमुख स्थानों पर पुलिस की गश्त बढ़ाई जाएगी. इसके लिए सबसे पहले बीट पुलिसिंग को प्रभावी बनाना पड़ेगा. जिसकी वजह से पुलिसकर्मी लोगों का भरोसा जीत पाएं. तभी जाकर लोग बिना हिचके पुलिस को हर दिक्कत बतायेंगे. इसके लिए काफी मेहनत भी लगेगी. इसके अलावा डीजीपी ने ये भी साफ़ कह दिया कि जिन धरनों की वजह से लोगों को दिक्कत होगी उनको अनुमति नहीं दी जाएगी. जो सड़क जाम करेगा उसके खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जायेगी.

नहीं बर्दाश्त करेंगे भ्रष्टाचार

इसके साथ ही सूत्रों की मानें तो डीजीपी जिलों में तैनात पुलिस कप्तानों, आईजी रेंज व एडीजी जोन के काम की समीक्षा करेंगे. जिसके अनुसार उनको तबादला भी दिया जा सकता है. जिन अफसरों के खिलाफ लापरवाही व भ्रष्टाचार से जुड़ी कोई भी शिकायत हुई उन्हें डीजीपी हटा सकते हैं. डीजीपी ने साफ़ कर दिया है कि वो किसी भी पद पर बैठे पुलिसकर्मी का भ्रष्टाचार में लिप्त होना बर्दाश्त नहीं करेंगे. 


रिपोर्ट - चंदू शर्मा