उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में लॉकडाउन के दौरान मोरना में जमा हुई लोगो की भीड़ को समझाने पहुंची भोपा थाने की पुलिस पर ग्रामीणों ने लाठी और डंडों से हमला कर दिया। बता दें कि पुलिस टीम पर हुए इस हमले में एक दरोगा समेत तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। घायल पुलिसकर्मियों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन दरोगा लेखराज और एक सिपाही रवि कुमार की गंभीर हालत देखते हुए उन्हें मेरठ के हायर सेंटर रेफर कर दिया गया।

जानिए पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक दिल्ली के निजामुद्दीन तबलीगी जमात में शामिल लोगों की तलाश के लिए यूपी की पुलिस सख्त नजर आ रही है। इसी कड़ी में मुजफ्फरनगर के भोपा थाने की पुलिस लॉकडाउन को सख्ती से लागू कराने के लिए गश्त पर थी। लेकिन जब पुलिस की टीम ने सड़क पर इकठ्ठा भीड़ को देखा तो उन्हें समझाने पहुंच गई। लेकिन इसी बीच पूर्व प्रधान और उसके समर्थक भड़क गए। इसके बाद उन लोगों ने लाठी-डंडों से पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। बता दें कि इस हमले में दरोगा लेखराज और सिपाही रवि कुमार को गंभीर चोटें आई हैं.

पूर्व प्रधान और उसके समर्थकों ने किया पुलिस पर हमला

इस मामले में सीओ राम मोहन शर्मा ने बताया कि पुलिस अपनी ड्यूटी कर रही थी और बाहर घूम रहे लोगों को समझा रही थी कि बाहर मत घूमो। लेकिन कुछ लोग भीड़ लगाए हुए खड़े थे। समझाए जाने के बाद भी वे नहीं माने और पुलिस पार्टी पर हमला कर दिया। सीओ ने बताया कि पुलिस टीम पर यह हमला पूर्व प्रधान और उनके समर्थकों ने किया। इसमें एक सिपाही और एक दरोगा गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें मेरठ रेफर किया गया है। उन्होने बताया कि एक अन्य सिपाही भी घायल है जिसका उपचार जिला हॉस्पिटल में चल रहा है। अभी तक कोई गिरफ़्तारी नहीं हुई है.


रिपोर्ट - चंदू शर्मा