असल जिंदगी में लोग पुलिस को जितना बुरा भला कहते हैं, अब संकट के समय वही पुलिस लोगों के लिए मददगार और मसीहा बनती दिखाई दे रही है। पुलिसकर्मी घर घर जाकर तो सामान दे ही रहे हैं, वहीं सड़कों पर रहने वाले लोगों के लिए भी खाना उपलब्ध करा रहे हैं, ताकि लॉक डाउन के समय कोई भूखा ना सोए। हम बात कर रहे हैं श्रावस्ती पुलिस की, जो दिन रात लग कर लोगों की मदद कर रहे हैं। पुलिसकर्मियों की ये तस्वीरें उन लोगों के सवालों का करारा जवाब है जो हमेशा पुलिस पर उंगली उठाते रहते हैं।

श्रावस्ती में सहारा बन रही पुलिस

दरअसल, कोरोना वायरस से जंग जीतने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन किया गया है ताकि वायरस अपने पैर ना पसार सके। इस लॉक डाउन से सबसे ज्यादा फ़र्क मजदूरों और उन लोगों को हुए है, जोकि रोज की कमाई से घर चलाए हैं, सड़क किनारे खड़े ठेलों पर खाना खाकर अपना पेट भरते हैं। ऐसे लोगों की मदद को हर जिले में पुलिस आगे आती है। हम आपको दिखा रहे हैं श्रावस्ती की तस्वीरें जहां पुलिसकर्मी खुद आगे आकर बेसहारा लोगों का सहारा बन रहे हैं, उन्हें खाना खिला रहे हैं।

पुलिस ने उठाई जिम्मेदारी

श्रावस्ती पुलिस ने ऐसे तमाम लोगों को खाना खिलाने की जिम्मेदारी ली है। शायद हर भूखे को वह खाना न खिला पाएं, लेकिन फिर भी काफी का पेट भरेगा।पुलिस अब एक नए रोल में है बहुत सारे लोग जो रोज कमाते और खाते थे, लॉकडाउन की वजह से उनका काम-धंधा बंद हो गया है बहुत सारे लोग पुलिस के पास सिफारिशें कर रहे हैं कि उनके पास खाने के लिए कुछ भी नहीं है। कोशिश की जा रही है कि हर पुलिस चॉकी क्षेत्र में उस इलाके के पुलिसवाले कुछ गरीब और बेसहारा लोगों को खाना खिलाएंगे 

क्या है पूरा मामला                  

चौकी बदला ::- प्रभारी चौकी बदला उपनिरीक्षक किसलय मिश्रा द्वारा ग्राम बृजवासी पुरवा निवासी एक परिवार में अन्न की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से की गई तथा ग्राम प्रधान को आवश्यक सहयोग हेतु बताया गया।