श्रावस्ती, जिला समाज कल्याण अधिकारी राकेश रमन ने बताया है कि जिले में जिलाधिकारी टी0के0 शिबु एवं मुख्य विकास अधिकारी ईशान प्रताप सिंह की अगुवाई में 15 अगस्त 2020 से जिले में लगातार नशामुक्त भारत अभियान चलाया जा रहा है, इस अभियान को सफल बनाने के लिए लगातार शैक्षणिक संस्थाओं एवं सार्वजनिक स्थलों पर कार्यक्रम आयोजित कर ’’नशामुक्त भारत हस्ताक्षर अभियान’’ चलाया जा रहा है। इस अभियान से अब तक बहुत से लोग जुड़ चुके है और वे अपने घर के पास-पड़ोस, मोहल्ला एवं गाँवों में भी लोगों को नशा से होने वाले दुष्परिणामों से लोगों को वाकिब भी करा रहे है।

     मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0पी0 भार्गव के निर्देशन में सोमवार को सामुदायिक स्वास्थ केंद्र भिनगा में मानसिक इलाज एवं नशामुक्ति का कैंप लगाया गया। इसका शुभारम्भ मुख्य चिकित्साधिकारी एवं अपर मुख्य चिकित्साधिकारी मुकेश मातन हेलिया ने नशामुक्त भारत हस्ताक्षर अभियान बैनर में अपना हस्ताक्षर बनाकर किया। इस दौरान मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. दिव्येश बरनवाल ने कैंप में आए लोगों का निःशुल्क जांच एवं दवाएं वितरित की गई, तथा गुलिस्तां सामुदायिक विकास समिति की संचालक गुलशन जहां द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिनगा एवं वृद्धा आश्रम भिनगा में आयोजित कैम्प के दौरान लोगों को नशा न करने का संकल्प भी दिलाया गया।

      सीएचसी अधीक्षक डॉ. विनय वर्मा ने बताया कि उक्त कैंप का आयोजन नशामुक्ति एवं मानसिक रोगियों के लिए किया गया था। जिसमें 500 मरीजों ने अपना पंजीकरण कराकर लाभ उठाया। डॉ. दिव्येश बरनवाल ने बताया कि आम आदमी के व्यवहार में होने वाले वो बदलाव जो खुद के साथ ही साथ परिवार व समाज के लिए समस्या हों मानसिक रोग की श्रेणी में आता है। उन्होंने बताया कि 18-20 प्रतिशत लोग किसी न किसी मानसिक रोग के शिकार हैं। कोविड-19 कि दौरान आर्थिक संकट बढ़ने से भी लोगों में मानसिक रोगियों की संख्या में इजाफा हुआ है। इसके लिए लोगों को संयम बरतने की जरूरत है।

      इस अवसर पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भिनगा में कैम्प के दौरान डा0 सूर्य प्रताप सिंह, परामर्शदाता संयुक्त जिला चिकित्सालय भिनगा डॉ. जितेंद्र मिश्रा, हेमन्त श्रीवास्तव सहित अन्य चिकित्साधिकारीगण एवं वृद्धा आश्रम के वृद्धजन उपस्थित रहे।