उत्तर प्रदेश में यातायात माह मनाया जाता है, ताकि लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक कराया जा सके। जिसकी जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों को सौंपी जाती है, जिससे वो नियमों का पालन करा सके। पर फतेहपुर जिले में कई दिनों से ये देखा जा रहा था, कि खुद पुलिसकर्मी ही नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। इसी के चलते जिले के एसपी ने चेकिंग अभियान चलाया था। जिसमें एसपी राजेश कुमार सिंह ने शनिवार को शहर के आबूनगर चौकी के समीप पुलिस कर्मियों के वाहनों की चेकिंग की। इस दौरान उन्होंने हेलमेट और सीट बेल्ट न लगाकर गाड़ियों से फर्राटा भर रहे दारोगा व पुलिस कर्मियों की वाहनों का चालान काटा।

एसपी ने काटे चालान

जानकारी के मुताबिक, बिना हेलमेट और सीटबेल्ट लगाकर घूमने वाले खाकीवर्दी धारियों के लिए शनिवार का दिन काफी खराब रहा। दरअसल, शनिवार को एसपी आबूनगर पुलिस चौकी का निरीक्षण करने पहुंचे। यहां एसपी ने पुलिस कर्मियों के गाड़ियों की चेकिग शुरू कर दी। चेकिग में सदर कोतवाली के उपनिरीक्षक प्रहलाद सिंह, मुराइनटोला चौकी प्रभारी संदीप तिवारी, बाकरगंज चौकी प्रभारी अनिरुद्ध द्विवेदी, सदर अस्पताल चौकी प्रभारी अवधेश सिंह,यातायात प्रभारी त्रिवेणी पांडेय, बुलेट सवार कोबरा-2, कोबरा -3, कोबरा -4 की टीम फंस गई। इन्होंने बाइक चलाते वक्त हेलमेट नहीं पहन रखा था जबकि यातायात प्रभारी चार पहिया गाड़ी में बिना सीट बेल्ट लगाए बैठे थे। कोतवाल सत्येंद्र सिंह और बाइक सवार कोबरा-एक नियमों का पालन करते दिखे। वहीं जेल चौकी प्रभारी अरविद मौर्य भी हेलमेट लगाए हुए मिले। पीआरओ अश्वनी कुमार सिंह ने बताया कि दारोगा समेत करीब 10 पुलिस कर्मियों का चालान कर यातायात नियमों का पालन करने के निर्देश दिए गहैं।