जहां समाज में पुलिस की छवी नकारात्मक बनी हुई है। वहीं दूसरी तरफ लखनऊ से एक ऐसी खबर सामने आ रही है, जहां RPF का एक जवान एक मां और बेटे के लिए फरिश्ता बनकर सामने आया। बता दें लखनऊ के चारबाग स्टेशन पर सोमवार को बड़ा हादसा टल गया। चलती ट्रेन से उतरने की कोशिश में एक मां अपने बच्चे के साथ प्लेटफार्म से ट्रैक पर गिर पड़ी। इसी दौरान ट्रेन के कई डिब्बे मां-बच्चे के ऊपर से गुजर गए। लोग शोर मचाते रहे लेकिन ट्रेन नहीं रुकी तो एक RPF जवान ट्रेन में चढ़ा चेन खींचकर गाड़ी को रोका। इसके बाद दोनों को सुरक्षित निकाल लिया गया। 





ये था पूरा धटना क्रम 

मिली जानकारी के मुताबिक लखनऊ के चारबाग स्टेशन पर सहरसा अमृतसर गरीब रथ ट्रेन खड़ी देख एक मां अपने बच्चे को शौंच कराने गाड़ी में चढ़ गई। इसी बीच गाड़ी चलने लगी तो बच्चे को गोद में लेकर मां चलती ट्रेन से उतरने लगी। उतरने के दौरान ही पैर फिसल गया। असंतुलित होकर महिला प्लेटफार्म से ट्रैक पर गिर पड़ी। उसके साथ बच्चा भी गिर गया। भीड़ भरे प्लेटफार्म पर मां-बच्चे को चलती ट्रेन से उसके नीचे गिरता देख हड़कंप मच गया। लोगों ने ट्रेन रोकने के लिए शोर मचाना शुरू कर दिया। ट्रेन के रफ्तार पकड़ते देख आरपीएफ जवान जितेंद्र यादव दौड़ गाड़ी में चढ़े और चेन को खींच लिया। इससे ट्रेन रुक गई और मां-बच्चे दोनों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। संयोग से दोनों को खरोंच तक नहीं आई है।