लखनऊ । उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापसी के लिए हर संभव प्रयास कर रही कांग्रेस दिपावली के बाद पूर्वांचल की जनता से संपर्क साधने के लिए चैथी प्रतिज्ञा यात्रा की शुरूआत करेगी। पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य, पूर्व सांसद राकेश सचान और पूर्व सांसद पीएल पुनिया ने रविवार को यहां पत्रकारों को बताया कि मौजूदा समय में तीन स्थानों से प्रतिज्ञा यात्रा शुरू हो चुकी है जबकि चैथी यात्रा का शुभारंभ गोरखपुर से दीपावली के बाद किया जाएगा। उन्होंने बताया कि बाराबंकी से प्रारंभ हुई यात्रा लखनऊ, उन्नाव, फतेहपुर, चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, जालौन होते हुए एक नवंबर को झांसी में संपन्न होगी। सहानपुर से शुरू हुई यात्रा मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बदायूं, अलीगढ़, हाथरस, आगरा से निकलते हुए मथुरा में संपन्न होगी। इसी क्रम में बनारस से निकली यात्रा चंदौली, मिर्जापुर, सोनभद्र, प्रयागराज, प्रतापगढ़, अमेठी से होते हुए रायबरेली में संपन्न होगी।
कांग्रेस नेताओं ने कहा कि यात्रा का मकसद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की सातों प्रतिज्ञाओं को जन-जन तक पहुंचाने का है। कांग्रेस की विजय सेना यूपी के पुराने गौरव व वैभव को पुनर्स्थापित करने के लिये प्रतिबद्ध है। यात्रा के प्रथम दिन में ही योगी सरकार की नीतियों से परेशान हो चुकी जनता में यात्रा को लेकर उत्साह देखने को मिला है, उससे स्पष्ट है कि जनता का आशीर्वाद कांग्रेस को प्राप्त होने जा रहा है।
उन्होंने कहा कि बेरोजगारी, हत्या, अपराध, दुष्कर्म व सत्ता प्रायोजित अपराधों के विरुद्ध प्रियंका गांधी जिस तरह न्याय के लिए संघर्ष पथ पर हैं उससे जनता का भरोसा कांग्रेस के साथ देखने को मिलने लगा है। उन्होंने लखीमपुर किसानों की हत्या के साथ लखीमपुर में ही धान की उपज को मंडी में आग के हवाले करने की घटना का उल्लेख करते हुए राज्य की किसान विरोधी नीति पर हमला कर कहा कि ललितपुर में खाद लेने के लिये लाइन में खड़े व्यक्ति की मौत सरकारी कुव्यवस्था का प्रमाण है।