आगरा. कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन (Lockdown) का लगातार हो रहे उल्लंघन के बीच आगरा जिला प्रशासन ने अहम फैसला लिया है. अब ताजनगरी में न तो किराना, सब्जी और दूध की दुकानें खुलेंगी और न ही मेडिकल स्टोर्स. जिला प्रशासन ने 25 मार्च को देर रत तक चली बैठक में यह निर्णय लिया है. राशन, दूध, फल और सब्जी की सप्लाई अब घर-घर होगी. साथ ही डॉक्टर, मेडिकल हेल्प व दवा की सप्लाई यूपी-112 के जरिए होगी.

जिला प्रशासन ने सभी वार्डों में राशन, सब्जी, दूध व फल की वैन गुरुवार से भेजेगी, ताकि लोग पैनिक न होते हुए सामानों की जमाखोरी न करें और अनावश्यक भीड़ से भी बचें. इतना ही नहीं डॉक्टर की मदद लेने के लिए यूपी-112 पर लोग कॉल कर सकते हैं. मेडिकल हेल्प को यूपी-112 के साथ जोड़ा गया है. कॉल करने पर खुद मेडिकल हेल्प लोगों के घर पहुंचेगा.

100 वार्डों में मोबाइल वैन से होगी सप्लाई


दरअसल, लॉकडाउन के पहले दिन लोग अनावश्यक रूप से बाहर निकल रहे थे, नौबत तो डंडा चलाने तक की आ गई थी. लोग राशन की दुकानों पर सैकड़ों की संख्या में एकत्र हो रहे थे, जिसके बाद जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने रात दो बजे तक बैठक की और यह फैसला लिया. डोर-तू-डोर डिलीवरी 26 मार्च से शुरू होगी. सभी 100 वार्डों में मोबाइल वैन के जरिए राशन पहुंचाया जाएगा.

बैंकों में भी ऑड-इवन लागू

सड़कों पर जरूरत के सामान खरीदने जुटने वाली भीड़ को हटाते हुए जिला प्रशासन ने किराना की दुकानें बंद करावाई हैं. गुरुवार सुबह एक बार फिर ताजनगरी में किराना की दुकानें खुलते ही भीड़ जुटी, लेकिन सड़कों पर तैनात पुलिस ने हल्के बल का प्रयोग करते हुए दुकानें बंद करा दी. सभी लोगों को समझाकर घर भेज दिया और यह भी बताया गया कि उनके घरों के आसपास सभी जरूरी सामानों की आपूर्ति प्रशासन कराएगा. शहर के 100 वार्डों में व्यवस्था लागू कर दी गई है. पुलिसकर्मी लाउडस्पीकर के जरिये दुकानें बंद करने की लगातार अपील कर रहे हैं. डीएम ने बताया कि सौ वार्डों के पार्षदों से तालमेल बिठाकर यह व्यवस्था बनाई गयी है कि लोगों को दैनिक जरूरत का सामान उनके घर के पास ही मिल सके. बैंक शाखाओं में भी सम-विषम व्यवस्था लागू कर दी गयी है. यानी पचास फीसदी बैंक एक दिन खुलेंगे तो अगले दिन शेष 50 फीसदी बैंक शाखाओं को खोला जाएगा.