उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जनपद स्थित गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा में तैनात सिपाहियों पर हमला करने का मामला सामने आया है। मंदिर के मेन गेट तैनात पीएसी के जवानों ने एक संदिग्ध युवक को रोककर चेकिंग की तो उसने धारदार हथियार से दोनों जवानों पर हमला कर दिया, जिससे दोनों गंभीर रूप से घायल हो गये हैं। दोनों घायल जवानों को अस्पातल में भर्ती कराया गया है। आरोपी हमलावर का नाम अहमद मुर्तजा अब्बासी है। वह मंदिर में घुसने के दौरान अल्ला-हू-अकबर का नारा लगा रहा था।

मंदिर में ही हुई हमलावर की पिटाई

फिलहाल एक दुकानदार व पुलिस के जवानों ने हमलवार को दबोच लिया। मंदिर में मौजूद आक्रोशित जनता ने हमलावर की पिटाई की, जिससे वह भी घायल हो गया। घायल जवानों को तत्काल गोरखनाथ चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। वहीं हमलावर युवक को जिला अस्पताल के इमरजेंसी में भर्ती कराया गया है। डीआईजी, एसएसपी और सीओ ने मौके पर पहुंच कर जांच की। अन्य सुरक्षा एजेंसियां भी आरोपित से पूछताछ कर रही हैं।

पीठ के पीछे छिपा रखा था धारदार हथियार

रविवार की शाम 6.45 बजे गोरखनाथ मंदिर परिसर के दक्षिणी गेट से एक युवक मंदिर परिसर में बैग लेकर जा रहा था। 20वीं वाहिनी आजमगढ़ पीएसी के जवान गोपाल गौड़ पुत्र रामचन्द्र गौड़ निवासी धर्मसीपुर मऊ और अनिल पासवान पुत्र रामानन्द पासवान निवासी बेलवार खोराबार, गोरखपुर ने युवक को संदेह के आधार पर रोका और बैग चेक करने लगे।

इस दौरान उसने पीठ के पीछे छुपा कर रखा बांकी (धारदार हथियार)से गोपाल गौड़ के पीठ पर हमला कर दिया जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया, जबकि अनिल पासवान के दाहिने जांघ ,बाये हथेली, बाएं हाथ में धारदार हथियार से हमला कर दिया।

अल्ला-हू-अकबर का लगा रहा था नारा

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जब तक सिपाही संभल पाते इससे पहले ही हमलावर ने सिपाहियों के पैर व शरीर के दूसरों हिस्सों पर ताबड़तोड़ कई वार कर दि, जिसकी वजह से सिपाही लहुलूहान होकर गिर पड़े। इसके बाद हमलावर गोरखनाथ मंदिर के मुख्य द्वार से अंदर जाने लगा।

आरोपी अहमद मुर्तजा अब्बासी अल्ला-हू-अकबर का नारा लगाते हुए आगे बढ़ा तो सिपाही अनुराग राजपूत और एलआईयू के अनिल सामने आ गए। आरोपी ने इन दोनों को धारदार हथियार से मारने का प्रयास किया। हमलावर किसी भी तरह से मंदिर परिसर के भीतरी हिस्से में जाना चाहता था। मुख्य द्वार के पहले बैरियर तक पहुंच गया था, तभी सिपाही अनुराग राजपूत ने साहस दिखाया और आगे आकर हमलावर को धर दबोचा।

एक डंडे से हमलावर के हाथ पर मारा और बांका गिरा दिया। घटना की जानकारी मिलने के बाद आसपास के लोग एकत्रित हो गए और सभी ने आरोपी हमलावर को पीट दिया। इससे हमलावर को चोटें आईं हैं। हमलावर को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना स्थल से ही एक बैग बरामद किया गया है। बैग से लैपटॉप, पैन ड्राइव व पैन कार्ड बरामद हुआ है। डीआईजी ने हमलावर को दबोचने वाले सिपाही अनुराग राजपूत की पीठ भी थपथपाई है।

मुंबई का रहने वाला है हमलावर

हमलवार की पहचान अब्बासी अहमद मुर्तजा पुत्र मुनीर अहमद अव्वासी निवासी ए 9 3/4 मिलिनियम टावर एसीएस मुंबई का रहने वाला है। उसका एक पता अब्बासी नर्सिंग होम सिटी माल थाना कैंट का भी मिला है। इतना ही नहीं अलीगढ़ से भी उसके तार जुड़ने के प्रमाण पुलिस को मिले हैं। तलाश के दौरान उसके पास से दो धारदार हथियार, लैपटॉप, मुंबई से आने-जाने का जहाज का टिकट व पर्स मिला है। आज ही वह फ्लाइट से गोरखपुर आया है।

राइफल छिनने की भी कोशिश

जानकारी के मुताबिक मंदिर की सुरक्षा में लगी पीएसी की 20वीं बटालियन थाने के सामने मुख्य प्रवेश द्वार पर सिपाही गोपाल कुमार गौड़ और आजमगढ़ के अनिल कुमार पासवान की ड्यूटी लगी हुई थी. शाम को आरोप युवक वहां पहुंचा और मुख्य प्रवेश द्वार पर तैनात कांस्टेबल गोपाल कुमार के पास पहुंचा और उसकी एसएलआर (सेल्फ लोडिंग राइफल) छीनने की कोशिश की. इस दौरान उसने गोपाल पर हमला किया और उसने अपनी कमर में छिपा कर रहखे दाव से हमला किया. हमला होते देख वहां पर कांस्टेबल अनिल आ गया, तभी हमलावर ने उसके पैर पर वार कर दिया. इसके बाद जब अन्य सुरक्षाकर्मी उसे पकड़ने के लिए दौड़े तो वह धार्मिक नारे लगाते हुए अंदर घुस गया. इसके बाद वहां मौजूद सिपाही अनुराग और अनिल ने उसे डंडे से नीचे गिरा दिया और उसे पकड़ लिया.

घायलों को पहुंचाया अस्पताल

गोरखनाथ मंदिर में हमले की जानकारी के बाद पुलिस अधिकारियों ने मौके पर पहुंचे और वहां से उन्होंने पुलिसकर्मियों को गोरखनाथ अस्पताल में इलाज के लिए भेजा औऱ वहां से उन्हें जिला अस्पताल में रेफर कर दिया गया है. एसएसपी विपिन टाडा, सिपाहियों और हमलावर को जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां से उन्हें मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया. फिलहाल इस मामले में पुलिस का कहना है कि घायल सैनिकों और हमलावर को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है और अभी हमलावर को चोट लगने के कारण उससे पूछताछ नहीं की जा सकी. आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है.

पुलिस कर रही है आतंकी कनेक्शन की जांच

इस मामले में पुलिस अब आतंकी कनेक्शन की भी जांच कर रही है. वहीं देर रात मंदिर पहुंचे एडीजी जोन अखिल कुमार ने बताया कि आतंकी कनेक्शन और साजिश समेत सभी पहलुओं की जांच की जा रही है. एटीएस भी इस मामले की जांच रही.