कोलकाता । पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमला किया गया जिसके बाद भगवा दल और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई। भाजपा ने जहां मिनाखा में रैली पर हुए हमले का आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगाया तो वहीं, राज्य में सत्तारूढ़ दल ने इस आरोप से इनकार किया और कहा कि भगवा दल के कार्यकर्ताओं ने क्षेत्र में स्थित तृणमूल कार्यालय में तोड़फोड़ की। पुलिस ने बताया कि मिनाखा थानांतर्गत मलांचा में भाजपा की 'परिवर्तन रैली में पीछे चल रहे दो वाहन पथराव के चलते क्षतिग्रस्त हो गए। भाजपा ने दावा किया कि बम फेंके जाने से चार पार्टी कार्यकर्ता घायल भी हुए हैं। पुलिस ने हालांकि, कहा कि हमले में कोई बम नहीं फेंका गया और न ही किसी व्यक्ति के हताहत होने की सूचना है। इसने कहा कि वाहनों पर हमले के बाद दोनों दलों के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। भाजपा नेता ने ट्वीट किया कि मिनाखा थानांतर्गत बसीरहाट के मलांचा में तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने परिवर्तन यात्रा पर हमला किया। देसी बम फेंके जाने के कारण चार कार्यकर्ताओं की हालत गंभीर है। पश्चिम बंगाल से भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के एक कार्यालय से पथराव किया गया और हमले में देसी बमों का इस्तेमाल किया गया। वहीं, तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया कि क्षेत्र में स्थित उसके कार्यालय को भाजपा कार्यकर्ताओं ने क्षतिग्रस्त कर दिया। उल्लेखनीय है कि पिछले साल दिसंबर में दक्षिण 24 परगना जिले में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा के काफिले पर हमला किया गया था। बता दें कि इससे पहले भी बीजेपी नेता के काफिले पर हमला हुआ था।