नई दिल्ली।कोरोना वायरस संकट के बीच आज एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट की अहम बैठक हुई। इस बैठक एशेंसियल कमोडिटी एक्ट को मंजूरी दे दी है। वहीं किसानों के लिए ‘वन नेशन, वन मार्केट’ का ऐलान किया गया है। सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी। केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा, कैबिनेट ने किसानों के लिए तीन महत्वपूर्ण फैसले किए हैं।
केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, किसानों के लिए वन नेशन, वन मार्केट का ऐलान किया गया है। किसानों के हित में अहम सुधार किए गए हैं। किसानों को देखते हुए ये बदलाव किए गए हैं। किसान अपनी उपज देश में कहीं भी बेच सकेंगे। कृषि उपज समझौते के आधार पर बेचने की अनुमति मिलेगी।
कैबिटने ने एसेंशियल कमोडिटी एक्ट में संशोधन को मंजूरी दे दी है। इस एक्‍ट के तहत जो भी चीजें आती हैं, केंद्र सरकार उनकी बिक्री, दाम, आपूर्ति और वितरण को कंट्रोल करती है। उसका अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) तय कर देती है। कुछ वस्तुएं ऐसी होती हैं जिसके बिना जीवन व्यतीत करना मुश्किल होता है, ऐसी चीजों को आवश्यक वस्तुओं की लिस्ट में शामिल किया जाता है।
केंद्र सरकार को जब भी यह पता चल जाए कि एक तय वस्‍तु की आवक मार्केट में मांग के मुताबिक काफी कम है और इसकी कीमत लगातार बढ़ रही है तो वो एक निश्चित समय के लिए एक्ट को उस पर लागू कर देती है। उसकी स्टॉक सीमा तय कर देती है, जो भी विक्रेता इस वस्तु को बेचता है, चाहे वह थोक व्यापारी हो, खुदरा विक्रेता या फिर आयातक हो, सभी को एक निश्चित मात्रा से ज्यादा स्टॉक करने से रोका जाता है ताकि कालाबाजारी न हो और दाम ऊपर ना चढ़ें। केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, सरकार निवेश बढ़ाने के लिए एम्पावर्ड ग्रुप को बनाने की मंजूरी दी गई है। इसके अलावा, पोर्ट बनाने के लिए अलग सेल बनाया जाएगा। कैबिनेट ने कोलकाता पोर्ट का नाम बदलने को मंजूरी दी है। कोलकाता पोर्ट नाम बदलकर श्याया प्रसाद मुखर्जी रखा जाएगा।