रांची। झारखंड प्रदेश कांग्रेस राहत निगरानी (कोविड-19) समिति की आज रांची स्थित पार्टी मुख्यालय में हुई बैठक में लॉकडाउन में प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी, लौट रहे कामगारों को हाईवे पर मदद उपलयब्ध कराने, जरूरतमंद परिवारों को भोजन-अनाज मुहैय्या कराने समेत चलाये जा रहे अन्य राहत कार्यां की समीक्षा की गयी। बैठक में प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, राजेश गुप्ता छोटू, लाल किशोरनाथ शाहदेव सन्नी टोप्पो, मदन मोहन शर्मा उपस्थित थे।
पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. रामेश्वर उरांव के निर्देशानुसार महाराष्ट्र में सड़क हादसे के शिकार पलामू जिले के मृतक श्रमिकों और घायलों के परिजनों के घर जाकर तत्काल राहत एवं सहायता प्रदान करने के लिए गठित समिति के सदस्यों ने आज सुबह 7.30 बजे मुलाकात की और परिजनों को ढाढ़स बंधाया। इस दौरान मृतक के आश्रित को सरकार की ओर से हरसंभव सहायता और घायलों की समुचित इलाज की व्यवस्था करने का भरोसा दिलाया गया। कमिटी के सदस्य चन्द्रशेखर शुक्ला, बिट्टू पाठक, अरविंद तूफानी ,आशिक अंसारी, तपेश्वर प्रसाद के नेतृत्व में छह सदस्यों ने मृतक अनुज मांझी और अन्य घायलों के परिजनों से मुलाकात कर अनाज भी उपलब्ध कराया गया।
आलोक कुमार दूबे ने बताया कि पार्टी द्वारा गठित हाईवे राहत समिति, विद्यार्थी राहत समिति द्वारा भी विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गां और प्रमुख राजमार्गा पर शिविर लगाकार रास्ते में पैदल आने जाने वाले प्रवासी श्रमिकों को भोजन-पानी उपलब्ध कराया गया, वहीं पार्टी द्वारा गठित समिति के प्रयास से पैदल जाने वाले कई प्रवासी कामगारों के लिए वाहन की भी व्यवस्था की गयी। दूसरी तरफ दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी के लिए गठित समिति भी लगातार सूची तैयार कर सरकार-प्रशासन के साथ समन्वय स्थापित कर उन्हें वापस घर लाने के लिए प्रयासरत है। साथ ही झारखंड के ही कई जिलों में फंसे श्रमिकों को भी उनके पैतृक गांव पहुंचाने के लिए भी व्यापक स्तर पर प्रयास किये जा रहे है।
पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता ने पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी को एक पत्र लिखकर आग्रह किया है कि कोरोना संकट से निपटने और आर्थिक गतिविधियों को तेज करने के लिए झारखंड को विशेष पैकेज उपलब्ध कराने के लिए  उनसे अपने केंद्रीय से बातचीत करने का आग्रह किया गया है। उन्होंने कहा कि विषय परिस्थति में भाजपा नेताओं का नाम इतिहास में पत्र-वीर के नाम से दर्ज होगा, उनके द्वारा लगातार विभिन्न विषयों पर पत्र लिखा जा रहा है,कोरोना संक्रमण मे चिट्ठी  चिट्ठी खेलना भाजपा का एकमात्र योगदान है। भाजपा के तीनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के बीच दिनभर मक्खन रोटी खाओ और चिट्ठी लिखो प्रतिस्पर्धा और फिर अखबार में छपाओ कार्यक्रम चल रहा है। इसलिए  कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से बाबूलाल मरांडी से आग्रह करती है कि झारखंड को सहायता उपलब्ध कराने के लिए वे अपने केंद्रीय नेताओं और केंद्र सरकार के मंत्रियों को भी पत्र लिखे।