नई दिल्ली। जो डरते हैं, वो कांग्रेस छोड़कर चले जाएं। दूसरी पार्टियों में जो निडर नेता है, उन्हें पार्टी में शामिल करें। करीब दो सप्ताह पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष का यह वाक्य सिर्फ बयान नहीं था, बल्कि पार्टी की बदलती रणनीति का संकेत है। यही रणनीति की बुनियाद होगी।
इस पर अमल करते हुए कांग्रेस वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में ‘निडर’ दावेदारों पर दांव लगाएगी। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि आगामी चुनाव में कांग्रेस नए और युवा उम्मीदवारों को टिकट देने की कोशिश करेगी। ताकि, पार्टी में नए लोगों को जोड़ा जा सके।

पिछले कुछ माह में कई युवा नेताओं के कांग्रेस छोड़ने से पार्टी की किरकरी हुई है। इससे यह संकेत गया कि पार्टी नेतृत्व सभी को साथ रखने में विफल रहा है। वहीं, काफी दिनों से पार्टी में नए लोगों का आभाव है। मजबूरन पार्टी को पुराने चेहरों पर ही दांव लगाना पड़ रहा है।

यही वजह है पार्टी ने दूसरे दलों से आने वाले नेताओं के लिए अपने दरवाजे खुले रखे हैं। अन्य दलों से आए नेताओं को पार्टी ने संगठन में अहम पद भी दिए हैं। इनमें नाना पटोले, नवजोत सिह सिद्धू और रेवंत रेड्डी शामिल है। यह सभी कुछ वर्ष पहले ही कांग्रेस में आए हैं।
पंजाब को छोड़कर सभी प्रदेशों में विधायक और नेता इधर-उधर हुए
कांग्रेस के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं कि भाजपा के सितारे बुलंद है। हर पार्टी से नेता भाजपा मे शामिल हो रहे हैं। ऐसे में कोई नेता भाजपा छोड़ने का जोखिम उठाता है, तो उसकी हिम्मत को सलाम करना चाहिए। वह वाकई निडर हैं। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पंजाब को छोड़कर सभी प्रदेशों में विधायक और नेता इधर-उधर हुए हैं। ऐसे में पार्टी के पास नए लोगों को शामिल करने के लिए काफी जगह है। वहीं, पार्टी वरिष्ठ लोगों का भी पूरा सम्मान करेगी।