कोरोना वायरस (Corona virus) से निपटने के लिए अब यूपी पुलिस भी तैयार है. दरअसल, उत्तर प्रदेश में डीजीपी हितेश चन्द्र अवस्थी ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिलों में पुलिस रैपिड एक्शन टीम बनाने का निर्देश दिया है. इस कार्य में लगने वाले पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षण देने के साथ ही सुरक्षा संसाधनों से लैस किया जाएगा. वहीँ इस पुलिस टीम का महत्वपूर्ण काम ये भी होगा वो नजर रखें कि कोरोना पीड़ित निर्धारित स्थान पर ही रहें.

डीएम ले सकतें हैं मदद

जानकारी के मुताबिक, पुलिस महानिदेशक हितेश चन्द्र अवस्थी ने महकमे के प्रदेशभर के अधिकारियों को दायित्वों और जरूरतों के संबंध में रविवार को दिशा निर्देश जारी किए. उन्होंने कहा है कि पुलिस कर्मियों की न्यूनतम एक या जरूरत अनुसार एक से अधिक रैपिड एक्शन टीम जिलों में बनाई जाए. जिला स्तर पर एक राजपत्रित अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित करें, जो निरंतर जिला और राज्य की हेल्पलाइन के संपर्क में रहेंगे.

वहीं उन्होंने ये भी कहा है कि यदि कहीं जिलाधिकारी या मुख्य चिकित्सा अधिकारी संक्रमण का कोई प्रकरण बताते हैं तो पुलिस से अपेक्षित सहयोग दिलाएंगे. रैपिड एक्शन टीम के कभी-कभी कोरोना (Corona virus) पीड़ितों के संपर्क में आने की संभावना रहेगी, इस कारण उन्हें मॉक ड्रिल आदि के संबंध में विशेष प्रशिक्षण दिया जाए. इस टीम को हैज-मैट सूट, ओवरआल सूट, संक्रमण रोधक ड्रेस मेडिकल ग्लब्स और मास्क आदि आवश्यक संसाधन प्रदान किए जाएं.

कोरोना पीड़ितों के पास लगाई जाए ड्यूटी

इसके अलावा डीजीपी हितेश चन्द्र अवस्थी ने ये बात भी साफ़ तौर पर क्लियर कर दी कि आइसोलेशन में रखे गए व्यक्तियों और उनका उपचार कर रहे चिकित्सा कर्मियों की सुरक्षा में पुलिस ड्यूटी लगाई जाए. जो व्यक्ति उपचार के दौरान समन्वय नहीं बैठायेगा उसके खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी की जा सकती है.


रिपोर्ट - चंदू शर्मा