पुलिस की कड़ी कार्रवाई के बावजूद टीम पर होने वाले हमले थमने का नाम लेते नजर नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला बिजनौर जिले का है, जहां कोर्ट के नोटिस की तमिल कराने पहुंची पुलिस टीम पर जानलेवा हमला किया गया। इस हमले में दारोगा समेत दो सिपाही भी गंभीर रूप से घायल हुए हैं। इस हमले में थाने की सरकारी कार का पिछला शीशा भी टूट गया है। तीनों घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दारोगा यशवीर सिंह की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ संबंधित धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

 

 

ये है मामला

जानकारी के मुताबिक, हमले में घायल उप निरीक्षक यशवीर सिंह ने बताया कि वह क्षेत्र के गांव सरकथल नंगला उर्फ हकीमपुर नारायन उर्फ नंगला निवासी ग्रामवासियों पर पूर्व में विचाराधीन मामले की विवेचना करने गांव पहुंचे थे। जब वह दिनेश कुमार उर्फ कलवा को बुलाकर नोटिस तामील करा गांव में संबंधित अपराधों के तहत ग्रामीणों से चर्चा कर रहे थे। इसी दौरान पुनीत पुत्र तेजपाल उनके पास आया और पुलिस टीम के साथ गाली-गलौज करते हुए पथराव कर दिया। इस पथराव में दारोगा यशवीर सिंह, कांस्टेबल अमित हुड्डा, निर्मल प्रताप सिंह घायल हो गए। बड़ी मुश्किल से तीनों ने अपनी जान बचाई। वहीं हमले में उनकी जीप का शीशा टूट गया।

 

फिलहाल दारोगा की तहरीर पर केस दर्ज करते हुए आरोपी पुनीत को गिरफ्तार कर उसका चालान कर दिया है। हालांकि दूसरी तरफ ग्रामीणों ने मामले से इंकार करते हुए पुलिसकर्मियों पर ही बदसलूकी के आरोप लगाए हैं।