जांजगीर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जांजगीर-चांपा (Janjgir-Champa) जिले के स्वास्थ्य महकमे में उस वक़्त हड़कम्प मच गया, जब बिलासपुर (Bilapur) एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम ने दबिश दी. बीते बुधवार को जांजगीर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय में पदस्थ लिपिक भरत लाल साहू को 15 सौ रुपये की रिश्वत लेते एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ा. जैजैपुर के स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ देवेन्द्र कुमार यादव के समयमान वेतन के दस्तावजों में त्रुटिवश, देवेन्द्र कुमार यादव के स्थान पर देवेन्द्र पाल सिंह हो गया था, जिसे सुधार करने के लिए ही रिश्वत मांगी गई थी.

शिकायत के मुताबिक मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय का लिपिक भरत लाल साहू 15 सौ रुपए मांग रहा था. रुपए नहीं दिए जाने पर आनाकानी कर रहा था, जिससे परेशान होकर देवेन्द्र कुमार यादव ने 7 फ़रवरी को बिलासपुर एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम से शिकायत की थी. बीते बुधवार को बिलासपुर एन्टी करप्शन ब्यूरो के डीएसपी आदित्य हीराधर और उनके टीम जांजगीर पहुंची और देवेन्द्र कुमार को केमिकल लगे 15 सौ रुपए के नोट दिए.

..तो किया गिरफ्तार

एसीबी की टीम द्वारा दिए गए नोट लेकर देवेन्द्र कुमार लिपिक भरत लाल साहू के पास गया और उसे देने लगा. पैसे मिलते लिपिक भरत लाल साहू ने पैसा अपने जेब में रख लिया. मोके पर मौजूद बिलासपुर एन्टी करप्शन ब्यूरो के टीम ने लिपिक भरत लाल साहू को 15 सौ रुपए के रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवई की.