झुंझुनूं. राजस्थान के झुंझुनूं जिले से दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है. झुंझुनूं  में केंद्र सरकार  (Central Government) द्वारा संचालित नामी गिरामी स्कूल में (Government School) एक दर्जन से अधिक छात्रों (students) के साथ शिक्षक (teacher) ने कुकर्म की वारदात को अंजाम दिया. गौरतलब है कि इस स्कूल को खुले हुए महज दो साल हुए है और इस वारदात के उजागर होते ही ना केवल स्कूल, बल्कि सैनिकों के जिले की प्रतिष्ठा भी दांव पर लग गई है. यहां पर एक शिक्षक ने एक-दो-चार नहीं, बल्कि 12 के करीब मासूम बच्चों के साथ कुकर्म किया है.

आरोपी के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मामला किया गया दर्ज

दरअसल इस प्रतिष्ठित स्कूल के एक शिक्षक ने 12 बच्चों के साथ कुकर्म किया और उनको धमकाता रहा कि वे इस घटना का जिक्र किसी से ना करें. जब से यह मामला सामने आया है तब से ना केवल राज्य में, बल्कि दिल्ली तक हड़कंप मचा हुआ है. इस मामले में झुंझुनूं की सदर पुलिस ने आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया है और उसके खिलाफ पोक्सो(POCSO) में मामला दर्ज कर लिया है.


बीकानेर का रहने वाला है आरोपी शिक्षक

मामले की जांच कर रहे झुंझुनूं SC/ST सेल के प्रभारी डीएसपी ज्ञानसिंह ने बताया कि आरोपी शिक्षक झुंझुनूं के ही जयपहाड़ी का रहने वाला है. उसका परिवार बीकानेर (bikaner) में रहता है और उसकी पत्नी भी बीकानेर में ही शिक्षिका है. आरोपी शिक्षक वर्तमान में दोरासर गांव स्थित स्कूल कैंपस में ही रहता है और यहीं पर उसने बच्चों के साथ इस वारदात को अंजाम दिया है.

घटना से स्कूल प्रबंधन के भी उड़े होश  
अब तक की जांच में यह भी सामने आया है कि बच्चों ने अपनी पीड़ा पहले शिकायत पेटिका में भी लिखित रूप में डाली थी, लेकिन टीचर ने उन्हें गायब कर दिया. जब यह मामला स्कूल में कार्पल पनिशमेंट मॉनिटरिंग कमेटी सीपीएमसी के सामने रखा गया और बच्चों ने इसकी जानकारी दी तो स्कूल प्रबंधन के भी होश उड़ गए. आरोपी पिछले छह माह से कर रहा था वारदात

जांच में यह भी सामने आया है कि आरोपी शिक्षक पिछले छह माह से इस वारदात को अंजाम दे रहा था. बता दें कि ये मामला 7 दिसंबर को सामने आया, इसके बाद आठ दिसंबर को आनन फानन में FIR दर्ज करा दी गई. पुलिस ने भी तत्परता दिखाते हुए आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया. फिलहाल आरोपी शिक्षक को गुरुवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा.