नई दिल्ली। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन के बीच छठी कोर कमांडर-स्तरीय बैठक सोमवार रात 13 घंटे की मैराथन वार्ता के बाद संपन्न हुई। बैठक में शामिल भारतीय प्रतिनिधियों के द्वारा अब वरिष्ठ अधिकारियों को चीन के साथ होने वाली चर्चाओं के बारे में जानकारी दी जाएगी।

14 कोर चीफ लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन, विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव के साथ मोल्डो में आयोजित चीनी पक्ष के साथ बैठक में शामिल हुए।  यह बैठक सोमवार को लगभग 10 बजे सुबह शुरू हुई और 11 बजे रात तक चली।
दोनों पक्षों के कोर कमांडर एक महीने से अधिक समय के बाद मिले। आपको बता दें कि दोनों पक्षों के बीच एलएसी पर कम से कम तीन बार गोलीबारी की घटना हुई। 

बैठक से पहले, शुक्रवार को आखिरी सप्ताह में भारतीय पक्ष के एजेंडे और मुद्दों पर चर्चा की गई और एक उच्च-स्तरीय बैठक के दौरान इसे अंतिम रूप दिया गया। इसमें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने भाग लिया।
यह वार्ता ऐसे समय में हुई जब भारतीय सेना ने छह प्रमुख पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया है, जो भारतीय सेना को ऊंचाइयों पर हावी होने में मदद कर रहे हैं।