मुंबई । बॉलिवुड की पंगा गर्ल कंगना रनौत एक ऐसी अदाकारा हैं जिन्होंने अपनी असाधारण अभिनय क्षमता का लोहा सबको मनवाया है अबा उनको नजरअंदाज हरगिज नहीं कर सकते। अभिनय पर सवाल नहीं उठा सकते क्योंकि कंगना की झोली में 3 राष्ट्रीय अवॉर्ड हैं और बेबाकी ऐसी कि किसी मुद्दे पर कंगना को डर नहीं लगता। पिछली बार राजकुमार राव के साथ सायकॉलजिकल थ्रिलर 'जजमेंटल है क्या' में दिखाई दीं कंगना अब एक स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म 'पंगा' से एक बार फिर सिल्वर स्क्रीन पर छा जाने को तैयार हैं।
कंगना ने सभी मुद्दों पर खुलकर बात की। 'पंगा' के टाइटल ट्रैक 'मन की जो सुने है वही चंगा, लेले लेले पंगा' पर कंगना ने कहा, 'मुझे लगता है कि मेरी जिंदगी का भी यह फंडा है। मैं केवल अपने दिल की सुनती हूं कि क्या सही है। मैंने कम उम्र में घर छोड़ दिया था और मुझ पर हुक्म चलाने वाला कोई नहीं रहा। मैंने 17 साल की उम्र में काम करना शुरू कर दिया था और तभी से में पंगा ले रही हूं। हो सकता है कि मेरी हरकतें बचपने वाली रही हों लेकिन फिर भी मैंने अपने मन के कहे को माना।'
कंगना अपने फैसलों की पूरी जिम्मेदारी लेती हैं और घर छोड़ने के फैसले पर उन्होंने कहा, 'घर छोड़ना मेरी जिंदगी का एक बड़ा फैसला था। मुझे लगा भी था कि अगर सफल नहीं हुई तो क्या होगा लेकिन फिर मेरे मन ने कहा कि जो भी होगा मैं खुद ही अकेले उससे निपट लूंगी। इसके लिए मेरे पैरंट्स साथ नहीं होंगे तो वापस जाने का कोई मौका ही नहीं था। ऐसा नहीं है कि वापस जाने पर मेरे पैरंट्स मुझसे कुछ कहते लेकिन मुझे अपना 100 फीसदी देना था।' अपने स्ट्रगल के बारे में कंगना ने कहा, 'मैंने बहुत कठिन दिन देखे हैं। मैं भूखे पेट सोई हूं। मेरे पैरंट्स मुझे हर सुख-सुविधा दे सकते थे लेकिन मैं वापस नहीं गई। मुझे लगा मेरा वापस जाना गलत होगा। मैंने अपना रास्ता चुना और उस पर टिकी रही।' बता दें कि अश्विनी अय्यर तिवारी के निदेशन में बनीं फिल्म 'पंगा' आने वाली 24 जनवरी को रिलीज होने जा रही है। फिल्म में कंगना के साथ जस्सी गिल, रिचा चड्ढा और नीना गुप्ता मुख्य भूमिकाओं में नजर आने वाले हैं।