बिलासपुर । 1 दिसंबर से शुरू हुई धान खरीदी के बाद से धान-मंडियों में किसानों के धान का आना बदस्तूर जारी है, राजस्व-अधिकारियों के साथ पुलिस-विभाग के द्वारा भी दुकानों में घरों में रखे हुए अवैध-धान सहित धानों के अवैध-परिवहन पर छापामार कार्यवाही लगातार जारी है, इसके अलावा धान-केंद्रों में धान-खरीदी को लेकर छत्तीसगढ़-शासन के मंत्रियों का पहुचना भी जारी है, कोटा-अनुभाग में कुछ समय पहले एसडीएम कोटा सहित एसडीओपी कोटा की सयुंक्त कार्रवाई में किराने की दुकानों सहित व्यापारियों के द्वारा घरों में रखे हुए अवैध धान भंडारण पर लगातार छापामार कार्रवाई की गई थी, हाल ही में हो रहे त्रिस्तरीय-पंचायत चुनाव होने के कारण बीच मे कार्यवाही की गति धीमी हो गई थी। कार्यवाही के बाद एसडीएम कोटा आनंद रूप तिवारी ने बताया की इस प्रकार की छापामार कार्यवाही आगे भी जारी रहेगी। शुक्रवार को अचानक एसडीएम कोटा आनंद रूप तिवारी सहित राजस्व अधिकारी व फूड-विभाग के अधिकारियों की टीम के द्वारा एक बार फिर से छापामार कार्यवाही की गई, कोटा अनुभाग के शनिचरी रतनपुर सहित बेलगहना के मझवानी के किराना दुकानों में आकस्मिक निरीक्षण करते हुए छापामार कार्रवाई की गई जहा की शनिचरी रतनपुर के दो किराने की दुकान में आकस्मिक-निरीक्षण में पहुचे एसडीएम कोटा ने दोनों किराने की दुकानों से 40 कट्टी जो कि अवैध-रूप से रखे हुए थे, दोनो दुकान-संचालको पर मंडी एक्ट के तहत एसडीएम कोटा ने कार्यवाही की, रतनपुर में कार्यवाही करने के बाद एसडीएम कोटा सहित खाद्य-विभाग के अधिकारियों के साथ बेलगहना के मझवानी गांव पहुचे जहा पर एक किराने की दुकान में 340 बोरी धान की कट्टी अवैध रूप से भंडारण करके रखा गया था जिसकी जांच की गई एसडीएम कोटा के छापामारी से दुकान-संचालक सहित आसपास के लोगो मे हडक़ंप मच गया अंतत:एसडीएम कोटा के द्वारा यहा पर भी किराना दुकान संचालक पर मंडी एक्ट के तहत कार्यवाही की गई, आज की कार्यवाही में पुलिस विभाग के अधिकारी दिखाई नही दिए, राजस्व-विभाग के अधिकारी सहित खाद्य-विभाग के अधिकारी की टीम आज की कार्यवाही में शामिल रही।