माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मौनी अमावस्या के रूप में मनाया जाता है| इस दिन को मनु ऋषि का जन्म दिवस भी माना गया है| इस दिन मौन व्रत रखा जाता है जो की पूरी तरह से योग पर आधारित होता है| ऐसा माना जाता है कि मौन रहने से शरीर में नयी चेतना और ऊर्जा का संचार होता है साथ ही मौन रखने से इन्द्रियों को भी अपने वश में किया जा सकता है| अगर मौन व्रत मौनी अमावस्या के दिन रखा जाये, तो यह काफी शुभ माना जाता है|

मौन व्रत को 1 घंटे से लेकर आपकी इच्छानुसार कितने भी समय तक रखा जा सकता है| मौनी अमावस्या के दिन पूजा पाठ करना और किसी धार्मिक स्थल पर किसी पवित्र नदी में स्नान करना भी काफी शुभ माना जाता है| इस दिन गंगा नदी में स्नान करते हुए गायत्री मंत्र का जाप करने से सुख शांति और समृद्धि बनी रहती है और पितृ को भी शांति मिलती है| अगर आपको गृह दोष, पितृ दोष या अन्य कोई दोष है तब आपको इस दिन स्नान ज़रुर करना चाहिए| इस दिन दान करने से भी काफी ज्यादा लाभ प्राप्त होते है| आज इस लेख में हम मौनी अमावस्या के शुभ महूर्त के बारे जानेंगे जिसके अनुसार आप दान धर्म, स्नान और पूजा पाठ भी कर सकते है|

मौनी अमावस्या पर दान, पूजा और स्नान करने का शुभ मुहूर्त

मौनी अमावस्या के दिन किसी धार्मिक स्थल पर स्थित किसी पवित्र नदी में स्नान करने से जाने-अनजाने में हुए सभी पाप धुल जाते है| इस दिन स्नान करते हुए गायत्री मंत्र का जाए करने से एक नयी ऊर्जा का अनुभव होता है| इस दिन अगर आप पितृ शांति या अन्य किसी तरह के दोष के लिए पूजा करवाते है तो भी आपको सकारात्मक परिणाम मिलते है| इस दिन स्नान के साथ मौन व्रत और हवन भी ज़रुर करवाना चाहिए| मौनी अमावस्या के दिन दान, पुण्य, पूजा पाठ और स्नान करने का सही मुहूर्त नीचे बताया गया है|

अमावस्या तिथि प्रारम्भ- सुबह 2 बजकर 17 मिनट (24 जनवरी 2020)

अमावस्या तिथि समाप्त- अगले दिन सुबह 3 बज कर 11 मिनट तक (25 जनवरी 2020)

मौनी अमावस्या के दिन करें इन चीज़ों का दान

मौनी मावस्या के दिन दान करना काफी शुभ माना जाता है| अगर आप कर्ज से दबे हुए है या आपके घर में धन से जुड़ी समस्या है तो शनिवार के दिन ग़रीबों को काले जुते और काले कम्बल का का दान ज़रुर करें| अगर आप घर में सुख शांति और समृद्धि चाहते है तो वस्त्र, तील और गुड का दान ज़रुर करना चाहिए| अगर आपको शनि का दोष है तो काली चीज़ों का दान ज़रुर करें| अगर आपको चंद्रमा की वजह से संकट है तो मिश्री,दूध, खीर, चावल, बताशा या फलों का दान जरुर करें|