MP की गैंग अलवर में:सासी गैंग गिरफ्तार; शादी और प्रोग्राम में बच्चों के जरिए कराता था चोरी
 

अरावली विहार थाना पुलिस की गिरफ्त में चोर गिरोह के बदमाश।
मध्यप्रदेश की सासी गैंग काे अलवर पुलिस ने पकड़ा
गहने व नकदी चुराने वाला गिरोह कार में चलता है

आपके घर में शादी या कोई बड़ा समारोह है तो सावधान हो जाइए। खासकर छोटे बच्चों से। जिनको देखकर आपको लगता होगा कि ये किसी रिश्तेदार या अतिथि के साथ होंगे। तुरंत ही आप तो भूल गए लेकिन इन बच्चों की आप पर बराबर निगाह है। बकायदा ये चोरी करने का प्रशिक्षण लेकर समारोह में घुसते हैं। जैसे ही इनको मौका मिलता है। ये शादी के गहने व रकम लेकर पार हो जाते हैं।

अलवर शहर में 26 नवम्बर को कटीघाटी के निकट एक शादी समारोह में 12 तोला सोना के आभूषण व नकदी लेकर फरार होने के बाद अलवर पुलिस ने मध्यप्रदेश के सासी गिरोह को गिरफ्त में लिया है। जिनमें दो बच्चे , एक महिला व दो पुरुष हैं। अलवर में चोरी की वारदात होने के बाद अरावली विहार पुलिस ने 1 हजार 280 किमी पीछा करके इनको पकड़ा है।

पिछले माह 26 नवम्बर को अलवर शहर में कटीघाटी के निकट पैराडाइज गार्डन में राजेन्द्र प्रसाद के पुत्र की शादी थी। उनकी पत्नी के पास 12 तोला सोने के आभूषण सिहत 40 हजार रुपए बैग में थे। शादी में उनका बैग चोरी होने के बाद पुलिस ने पड़ताल शुरू की। इसके करीब पांच दिन बाद पुलिस ने 1 हजार

200 किमी पीछा कर चोरों को पकड़ा।

घटना के तुरंत बाद अरावली विहार पुलिस ने साइक्लॉन सैल की मदद लेकर पता लगाया कि चोरी करने वाली मध्यप्रदेश की सासी गैंग हो सकती है। उस समय गैंग की लोकेशन का आगरा में होने का मालूम चला। फिर मध्यप्रदेश की तरफ चले गए। वहां से छतरपुर में चले गए। फिर छतरपुर से बमैठी पहुंच गए।

पुलिस टीम ने गैंग का पीछा किया। वहां पर हाइवे पर ही बिना नम्बर की एक पर नजर पड़ी। जिसका पीछा किया गया। लेकिन यह कार आगे चलकर ओझल हो गई। ऐसे में फिर पुलिस की मशक्कत बढ़ गई। तकनीकी सहायता लेकर पुलिस ने ग्वालियर, धौलपुर व भरतपुर तक कार की तलाश की। बाद में पता लगा कार ग्वालियर पहुंच गई। वहां पहुंच तो कार के इलाहबाद व कानपुर की तरफ होना बताया गया। इसके बाद पुलिस इटावा होते हुए कानपुर पहुंची। फिर इलाहबाद गए। वहां सुबह के समय पता लगा गैंग यहां से निकलने की फिराक में है। लेकिन पुलिस ने सुबह ही इलाहबाद से कानपुर के बीच में हाइवे पर कार से जाते समय पूरी गैंग को दबोच लिया।

गैंग निकली मध्यप्रदेश के राजगढ़ के सासी कडिया की

पुलिस ने बताया यह गैंग मध्यप्रदेश के राजगढ़ के सासी कडिया गांव की रहने वाली है। जो सासी जाति के लोग हैं। यह गैंग अपने गांव से बच्चे व महिला के साथ गाड़ी में सवार होकर शादियों के सीजन में पूर भारत में घूमते हैं। जहां भी मैरिज होम में शादी मिलती है। वहीं के आसपास ठहर जाते हैं। बच्चे समारोह में घुल मिलने लगते हैं। उनको पहले से प्रशिक्षण मिला हुआ होता है कि कैसे शादी वाले मुख्य पुरुष या महिला को पहचान कर उसके कब्जे से बैग लेकर पार होना है। अलवर के मैरिज हो में भी यही हुआ था।

यह सामग्री बरामद की

पुलिस ने कालू सिंह, उम्र 24 साल, राजेश उम्र 33 साल, शिमला उम्र 40 साल सहित विधि विरुद्ध संघर्षरत 10 से 12 साल के दो बच्चों को पकड़ा है। जिनसे एक स्वीफ्ट कार, चार सोने की चूड़ी, एक सोने का मंगलसूत्र, सोने का हार, सोने के टॉप्स व तीन मोबाइल फोन बरामद किए हैं। इन मुल्जिमों ने कटीघाटी के अलावा मध्यप्रदेश के शिवपुरी में व उरैई में नकदी चोरी कबूल की है। इन तक पहुंचने में अलवर के अरावली विहार पुलिस के 16 पुलिसकर्मियों का पूरा प्रयास रहा है।