मुंबई,  चक्रवात निसर्ग के महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से टकराने के बाद बुधवार की दोपहर को तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार, यह प्रकिया अगले तीन घंटों तक चलेगी। हवा की स्पीड 120 से 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही है। निसर्ग तूफान के चलते कई जगहों पर नुकसान की खबर आ रही है। कई जगहों पर पेड़ जड़ से उखड़ गए तो वहीं कच्चे मकानों को काफी नुकसान हुआ है। कुछ जगहों से निसर्ग तूफान के चलते बिजली गुल हो गई है।

तबाही के मद्देनजर मुंबई और गुजरात में रेड अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने बताया कि यह गंभीर रूप धारण कर सकता है। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि निसर्ग चक्रवात महाराष्ट्र के तट पर अलीबाग के निकट पहुंच गया है और इस प्रक्रिया के अपराह्न 4 बजे तक पूरा हो जाने का अनुमान है। हालांकि, 4 बजे के बावजूद निसर्ग का तांडव जारी है। चक्रवात के पहुंचने की प्रक्रिया अपराह्न करीब साढ़े 12 बजे आरंभ हो गई थी। आईएमडी ने एक बयान में कहा, 'बादल का दाहिना हिस्सा महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्र, खासकर रायगढ़ जिले से होकर गुजर रहा है। यह आगामी तीन घंटे में मुंबई और ठाणे जिलों में पहुंचेगा।' वहीं, गुजरात और महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्रों से 40 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। महाराष्ट्र में लोगों को तटीय इलाकों में जाने से रोका गया है।
- महाराष्ट्र में निसर्ग तूफान ने भारी तबाही मचाई  है। 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे हवा की रफ्तार के चलते कई जगहों पर बिजली के खंभे और पेड़ उखड़ गए। रायगढ़ में मकान की टिन की छतें चादरों की तरह हवा में उड़ती हुई दिखीं।
-महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने कहा कि तूफान के चलते पावर लाइन्स और खंभों का काफी नुकसान पहुंचा है। महाराष्ट्र स्टेट इलैक्ट्रीसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के ऑफिसर, कर्मचारी, कंट्रैक्टर और सिस्टम्स तैयार हैं। सभी सतर्क रहें और इस संकट से बाहर आएंगे।
-निसर्ग तूफान के चलते मुंबई एयरपोर्ट पर दोपहर ढ़ाई बजे से शाम 7 बजे तक विमानों की लैंडिंग की इजाजत नहीं दी गई है। 20 फ्लाइट्स शेड्यूल थीं जबकि 12 डिपार्चर और 8 अराइवल्स थे।
- महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार चक्रवात निसर्ग के बुधवार दोपहर राज्य में पहुंचने के मद्देनजर तटीय इलाकों के लोगों से सुरक्षित स्थानों पर रहने की अपील की है। पवार ने कहा कि चक्रवात का प्रभाव कम होने तक लोग घरों से ना निकलें। पवार के हवाले से जारी बयान में कहा गया कि चक्रवात 'निसर्ग के महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग पहुचंने के मद्देनजर मुम्बई, ठाणे, पालघर, रायगढ़ और सिंधुदुर्ग जिले के लोग सुरक्षित स्थानों पर ही रहें। पवार राज्य के वित्त मंत्री भी हैं। 
- साइक्लोन निसर्ग की वजह से महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में बारिश हो रही है। तेज हवाओं के चलने की वजह से कई इलाकों में पेड़ गिर गए। एनडीआरएफ ने अलीबाग में गिरे पेड़ की तस्वीरें शेयर की हैं।