इस्लामाबाद । पाकिस्तान की रुग्ण अर्व्यवस्था को  कश्मीर मुद्दे पर चल रहे तनाव से दोनों देशों के बीच होने वाले व्यापार पर काफी असर पड़ा है। पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक ने यह बात कही। पाकिस्तानी से आ रही खबरों के मुताबिक, स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के 2019-20 के पहली छमाही के आंकड़ों में कहा गया है कि जुलाई-दिसंबर में पाकिस्तान का भारत को निर्यात गिरकर 1.68 करोड़ डॉलर रह गया, जो कि 2018-19 की पहली छमाही में 21.3 करोड़ डॉलर था। पाकिस्तान का वित्त वर्ष एक जुलाई से शुरू होता है। इसमें कहा गया है कि दोनों देशों के बीच व्यापार कम होने का कुछ खास असर व्यापार संतुलन पर नहीं पड़ा है। यह अब भी भारत के पक्ष में है। आंकड़ों के मुताबिक, पाकिस्तान का भारत से आयात भी जुलाई-दिसंबर अवधि में गिरकर 28.6 करोड़ डॉलर रहा, जो एक साल पहले इसी अवधि में 86.5 करोड़ डॉलर था। इसके परिणामस्वरूप, भारत के साथ पाकिस्तान का व्यापार घाटा 26.9 करोड़ डॉलर है। उल्लेखनीय है कि भारत ने पांच अगस्त को जम्मू- कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा वापस ले लिया था और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित करने की घोषणा की थी। पाकिस्तान ने भारत के इस कदम का कड़ा विरोध करते हुए इसे अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाने की कोशिश की थी। पाकिस्तान ने भारत से राजनयिक संबंध घटाया था और व्यापार को रोक दिया था। इससे व्यापार और वाणिज्यिक गतिविधियों को नुकसान पहुंचा है। केंद्रीय बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, पाकिस्तान का चीन से आयात जुलाई-दिसंबर में गिरकर 4.8 अरब डॉलर रहा। एक साल पहले इसी छमाही में यह आंकड़ा 5 अरब डॉलर था। हालांकि, पाकिस्तान का चीन को निर्यात मामूली बढ़कर 93.6 करोड़ डॉलर रहा, जो कि पहले 88.9 करोड़ डॉलर था।