नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सप्ताह देश में कोविड-19 की स्थिति पर संसद में विभिन्न दलों के नेताओं के साथ चर्चा कर सकते हैं। यह वर्चुअल बैठक 4 दिसंबर को हो सकती है। इसके लिए संसदीय कार्य मंत्रालय विभिन्न दलों के संपर्क में हैं। बैठक में आगामी संसद सत्र को लेकर की चर्चा हो सकती है। 
सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में विभिन्न दलों के नेताओं के साथ शुक्रवार को सुबह साढ़े दस बजे कोविड-19 की मौजूदा स्थिति को लेकर चर्चा कर सकते हैं। इस वर्चुअल बैठक में प्रधानमंत्री वैक्सीन को लेकर हुई अब तक की प्रगति और टेस्टिंग से लेकर उपचार तक की सुविधाओं को लेकर सभी दलों के नेताओं को जानकारी भी देंगे। बैठक में लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदनों में विभिन्न दलों के नेताओं के हिस्सा लेने की संभावना है। 
बैठक में संसद के सदस्य पूर्व स्वास्थ्य मंत्रियों को भी आमंत्रित किया जा सकता है। इसमें भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा (पूर्व स्वास्थ्य मंत्री), गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के साथ संसदीय कार्य मंत्रालय के मंत्री भी उपस्थित रहेंगे। बैठक के लिए संसदीय कार्य मंत्रालय विभिन्न दलों के नेताओं के साथ संपर्क कर रहा है। गौरतलब है कि इस बार कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए संसद का शीतकालीन सत्र अभी तक घोषित नहीं हो पाया है। इस सत्र को संसद के अगले साल होने वाले बजट सत्र के साथ मिलाया जा सकता है। 
प्रधानमंत्री के साथ बैठक में इस बारे में भी चर्चा की जाएगी और संसद सत्र को लेकर सरकार अपनी जानकारी देने के साथ विपक्षी दलों से भी सुझाव भी लेगी। यह बैठक इस मायने में भी महत्वपूर्ण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अहमदाबाद, हैदराबाद और पुणे की दवा कंपनियों का दौरा कर कोविड-19 टीके के विकास के लिए हो रहे कार्य की समीक्षा के बाद सरकार ने यह बैठक बुलाई है। सोमवार को मोदी ने कोविड-19 के टीके को विकसित कर रही और उसका विनिर्माण कर रही तीन टीमों के साथ सोमवार को एक ऑनलाइन बैठक की है। ये 3 कंपनियां पुणे की ‘जेनोवा बायोफार्मास्यूटिकल लिमिटेड', हैदराबाद की ‘बायोलॉजिकल ई लिमिटेड' और हैदराबाद की ही ‘डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज लिमिटेड' हैं।