आज 21 मई को पूरे देश में आतंकवाद विरोधी दिवस के तौर पर मनाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में भी पुलिस विभाग ने इस मौके पर आतंकवाद का डटकर मुकाबला करने की शपथ ली। इसी कड़ी में श्रावस्ती में भी पुलिसकर्मियों ने संकल्पित होकर आतंकवाद से मुक्ति पाने की शपथ ली।

जानिए पूरी खबर

जानकारी के मुताबिक 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस पर श्रावस्ती पुलिस कार्यालय में पुलिस अधीक्षक अनूप कुमार सिंह ने पुलिस कार्यालय के समस्त पुलिसकर्मियों को सभी प्रकार के आतंकवाद और हिंसा का डटकर विरोध करने और मानव जाति के सभी वर्गों के बीच शांति, सामाजिक सद्भाव व सूझ-बूझ कायम करने और मानव जीवन मूल्यों को खतरा पहुचाने वाली विघटनकारी शक्तियों से लड़ने की शपथ दिलायी। 

सन् 1992 से मनाया जा रहा है आतंकवाद विरोधी दिवस

आपको बता दें कि ये दिन देश के सभी वर्गों के लोगों के बीच आतंकवाद और हिंसा के प्रति जागरूकता फैलाने, समाज और देश पर आतंकवाद के पड़ने वाले दुष्प्रभाव के बारे में जानकारी देने के लिए मनाया जाता है। आतंकवाद विरोधी दिवस के अवसर पर पुलिस अधीक्षक अनूप सिंह द्वारा पुलिस कार्यालय में कार्यरत सभी अधिकारियों/ कर्मचारीगणों को सामाजिक दूरी का पालन कराते हुए शपथ दिलायी गई। इसी क्रम में अपर पुलिस अधीक्षक बी सी दूबे द्वारा अपनी पेशी के कर्मचारियों को तथा क्षेत्राधिकारी नगर/इकौना द्वारा अपनी पेशी के कर्मचारियों को शपथ दिलाई गई। साथ ही साथ वैश्विक महामारी कोविड-19 के दृष्टिगत सभी थाना/चौकी/शाखाओं के प्रभारियों द्वारा अपने अधीनस्थ तैनात कर्मचारियों को सामाजिक दूरी का पालन करवाते हुए शपथ दिलाई गई। 

21 मई को ही क्यों मनाया जाता है आतंकवाद विरोधी दिवस

बता दें कि 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कर दी गई थी। उनकी हत्या के बाद ही 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के तौर पर मनाने का फैसला किया गया। इस दिन हर सरकारी कार्यालयों, सरकारी उपक्रमों और अन्य सरकारी संस्थानों में आतंकवाद विरोधी शपथ दिलाई जाती है।


रिपोर्ट - चंदू शर्मा