लखनऊ । उत्‍तर प्रदेश विधान परिषद के खंड स्‍नातक और खंड शिक्षक क्षेत्र से 11 सीटों के लिए चुनाव में औसत 55.47 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाला। इस बीच फर्रुखाबाद में समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के उम्‍मीदवारों के समर्थकों के बीच जमकर मार पीट और मतपत्र फाड़े जाने की घटनाएं भी हुईं। चुनाव का परिणाम 3 दिसंबर को घोषित किया जाएगा। संयुक्‍त मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी रमेश चंद्र राय के मुताबिक आगरा खंड स्‍नातक में 41.56 प्रतिशत, इलाहाबाद झांसी खंड स्‍नातक में 41.10 प्रतिशत, लखनऊ खंड स्‍नातक में 36.74 प्रतिशत, मेरठ खंड स्‍नातक में 42.86 प्रतिशत, वाराणसी खंड स्‍नातक में 39.33 प्रतिशत मतदान हुआ। राय के अनुसार खंड शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र आगरा में 70.78, बरेली-मुरादाबाद खंड में 73.48 प्रतिशत, गोरखपुर-फैज़ाबाद में 73.94, लखनऊ खंड में 58.99 प्रतिशत, मेरठ खंड में 62.60 और वाराणसी खंड शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में 68.83 प्रतिशत वोट पड़े।
  उल्‍लेखनीय है कि चुनाव में भाजपा, सपा, कांग्रेस और शिक्षक संघों के अलावा निर्दलीय समेत कुल 199 उम्‍मीदवार चुनाव मैदान में अपनी किस्‍मत आजमा रहे हैं। इसमें पांच खंड स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों में 114 प्रत्याशी तथा छह खंड शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों में 85 प्रत्याशी मैदान में हैं। फर्रुखाबाद से मिली खबर के अनुसार मतदान के दौरान जिले के मोहम्मदाबाद बूथ पर दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई, जबकि राजेपुर में भाजपा नेता का मतपत्र फाड़ने का आरोप दारोगा पर लगा, जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ। मोहम्मदाबाद क्षेत्र में जिस समय मतदान चल रहा था उस समय सपा और भाजपा के उम्‍मीदवारों के समर्थकों में जमकर मारपीट हुई। मारपीट होते देख वरिष्‍ठ उपनिरीक्षक हरिओम त्रिपाठी उन्हें बचाने पहुंचे तो उनके साथ भी धक्का-मुक्की की गयी। काफी देर मारपीट होने के बाद पुलिस ने बमुश्किल मामले को शांत किया। राजेपुर विकास खंड क्षेत्र में भाजपा के पूर्व मंडल अध्यक्ष विभवेश सिंह नें आरोप लगाया कि जब वह शाम 4:55 बजे मतदान करने गये तो पीठासीन अधिकारी ने मत डालने की अनुमति दे दी, जिसके बाद जब मतदान कर मत पेटी में बैलेट डालने गये तो दारोगा रमाशंकर ने उसका बैलेट फाड़ दिया। इस बात पर भाजपा नेता ने हंगामा कर दिया, जिसके बाद जमकर नोक झोंक हुई।