तीनों कृषि कानूनों की वापसी के बाद भी किसानों का धरना प्रदर्शन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. इसी बीच बाबा महेंद्र सिंह टिकैत के करीबी सहयोगी रहे भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ( Thakur Bhanu Pratap Singh) ने राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) और आंदोलन पर गंभीर आरोप लगाए है. टिकैत पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह किसान आंदोलन कांग्रेस की फंडिंग पर चल रहा है.

ठाकुर भानु प्रताप सिंह के मुताबिक राकेश टिकैत फंडिंग के ऊपर काम करते हैं. सिर्फ राकेश टिकैत ही नहीं कांग्रेस पार्टी पर भी आरोप लगाते हुए ठाकुर भानु प्रताप ने कहा कि कांग्रेस की फंडिंग से ये आंदोलन चल रहा है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस नहीं चाहती ये आंदोलन खत्म हो. कानून वापस ले लिए गए हैं फिर भी ये बॉर्डर खाली नहीं कर रहे हैं. ऐसे में बल की जरूरत पड़े तो उसका भी इस्तेमाल कर हटाया जाए.

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने संसद के शीतकालीन सत्र में किसानों से जुड़े 3 कानून वापस ले लिए हैं. लेकिन किसानों ने अभी तक आंदोलन वापस लेने की बात नहीं की है. अब किसान एमएसपी पर कानूनी गारंटी की मांग कर रहे हैं. किसानों की मांग है कि पहले सरकार उनकी बातों को माने फिर वो फैसला करेंगे कि आंदोलन कब और कैसे वापस लेना है. हालांकि, सरकार से बातचीत के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने 5 सदस्यीय कमेटी का गठन कर दिया है. फिलहाल सरकार और किसान दोनों ही तरफ से नरम रुख अपनाया जा रहा है अब देखना यह है कि या आंदोलन कब खत्म होगा.

अब इस मांग पर अड़े राकेश टिकैत 

बता दें कि राकेश टिकैत लगातार कह रहे हैं कि अभी तो सिर्फ काला कानून वापस हुआ है है. लेकिन अब एमएसपी की गारंटी, किसानों पर दर्ज मुक़दमे वापस लेना और शहीद किसानों को मुआवजे की बात जब तक नहीं मानी जाती तब तक किसान घर वापस नहीं जाएगा. टिकैत कहते रहे हैं कि यह आंदोलन अभी लंबा चलेगा.