भदोही । उत्‍तर प्रदेश के भदोही जिले के गोपीगंज थाना क्षेत्र में 21 साल की एक युवती को घर में घुसकर मिट्टी का तेल डालकर जलाए जाने के बाद 50 प्रतिशत जली लड़की का निजी अस्‍पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस के अनुसार यह घटना 23 अक्‍टूबर की है, लेकिन इसमें लगभग एक महीने बाद एक महिला सहित पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश की जा रही है। परिवार का आरोप है कि दबंग आरोपी अस्‍पताल पहुंचकर उन्हें धमकाते थे, जिससे उन्होंने तहरीर बहुत देर से दी। मामले पर गोपीगंज के प्रभारी निरीक्षक केके सिंह ने बताया कि युवती का इलाज जिले के एक निजी अस्पताल में किए जाने की बात परिवारवालों ने बताई है, पर इस मामले की सूचना पुलिस को नहीं दी। जिस दिन मामला दर्ज किया गया, उसी दिन पूरी घटना के बारे में परिजनों ने जानकारी दी। सिंह ने दर्ज मामले के आधार पर बताया कि थाना क्षेत्र के एक गांव में 23 अक्‍टूबर को रात लगभग बारह बजे निर्मला देवी के घर में उसके पड़ोसी विकास, अखिलेश, राम प्रसाद, सियाराम और बिन्दा देवी गलत नीयत से घुस गए तथा उसे पकड़कर उसपर मिट्टी तेल डालकर आग लगा दी। वे उसे एक कमरे में बंद कर भाग गए। थाना प्रभारी ने कहा कि बुरी तरह जलने से चीख रही युवती को आसपास के लोगों ने बाहर निकाला और अस्पताल ले गए। प्रभारी ने बताया कि महिला के इलाज के दौरान दबंग आरोपी अस्पताल पहुंचकर कुछ भी बताने पर जान से मारने की धमकी देते रहे। अकेली बेटी के साथ रहने वाली उसकी मां ने मुंबई से अपने पति को 27 नवंबर को बुलाया और बेटी के साथ हुई घटना के संदर्भ में 29 नवंबर को मामला दर्ज कराया। मामले में पांच लोगों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मामला दर्ज कर फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है। पचास प्रतिशत तक जली युवती का इलाज अस्पताल में चल रहा है और उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जाती है।