यूपी विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. एसटी हसन (SP MP Dr ST Hasan) ने विवादित बयान दिया है. उन्होंने वोटों के लिए चुनाव को सांप्रदायिक रंग दिया है. सपा सांसद ने मुसलमानों को खौफ दिखाकर समर्थन जुटाने की कवायद की है. उन्होंने रविवार रात एक कार्यक्रम में कहा कि बीजेपी देश के मुसलमानों को मजदूर बनाकर रखना चाहती है. बहुत जल्द कॉमन सिविल कोड आने वाला है. उन्होंने कहा कि ‘कौम के लिए मैं आपसे इतनी अपील करना चाहता हूं कि चुनाव आने वाले हैं, अल्लाह के वास्ते इसमें बंट मत जाना. सिर्फ एक ही आपका मकसद होना चाहिए कि बीजेपी को हराना है.’

मुरादाबाद के सांसद डॉ. एसटी हसन ने कहा कि भाजपा कॉमन सिविल कोड लाने वाली है. यदि यह कानून आया तो मुसलमानों के अधिकार छिन जाएंगे. मंच से हसन बोले- ये कानून आने के बाद आप दूसरी शादी नहीं कर पाएंगे. मुस्लिम पर्सनल लॉ खत्म हो जाएगा. मुस्लिमों के शैक्षणिक संस्थानों का माइनॉरिटी स्टेटस खत्म हो जाएगा. इसके बाद मुस्लिम संस्थाओं में 50% मुस्लिमों के पढ़ने का अधिकार खत्म हो जाएगा. आप चुनावों में बंटे तो इसके नतीजे घातक होंगे. इसलिए एकजुट होकर बीजेपी को हराएं.

केशव प्रसाद मौर्य को बताया दिमागी बीमार

सपा सांसद ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पर भी तीखा हमला बोला है. मुसलमानों पर हाल ही में दिए गए केशव मौर्य के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए सांसद ने कहा- केशव मौर्य दिमागी बीमारी साइकोसिस से ग्रसित हैं, उन्हें इलाज की जरूरत है.

दरअसल, प्रयागराज में पिछले दिनों केशव मौर्य ने कहा था कि 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले लुंगी छाप गुंडे घूमते थे. जालीदार टोपी लगाए बंदूक-गोली लिए व्यापारियों को डराने का काम करते थे. शिकायत पर धमकी देते थे. ऐसे लोगों से भाजपा ने निजात दिलाई है.