सूरत | एन्टी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में सूरत महानगर निगम के एक कर्मचारी को गिरफ्तार कर लिया| एसीबी की कार्यवाही से नगर निगम के कर्मचारी और अधिकारियों में हड़कम्प मच गया है| सूरत नगर निगम में बतौर सहायक अभियंता सेवारत राजेश पटेल को एसीबी ने रु. 25000 की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था| 2016 की सूरत के रांदेर जोन की इस घटना में राजेश पटेल को महानगर पालिका ने सस्पैंड कर दिया था| हांलाकि बाद में महानगर पालिका ने राजेश पटेल की सेवा बहाल कर दी| दूसरी ओर एसीबी की जांच में राजेश पटेल के पास आय से अधिक संपत्ति का खुलासा हुआ| राजेश पटेल रु. 8774672 संपत्ति का मालिक था| जिसमें खेती की जमीन, मकान, प्लाट, ऑफीस, वाहन, बैंक एफडी, लॉकर में आभूषण इत्यादि के बारे में राजेश पटेल संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया| जिसके बाद एसीबी ने राजेश पटेल के खिलाफ मामला दर्ज किया और आज उसे गिरफ्तार कर कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी|