अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान के कब्जे के बाद से ही हाहाकार मचा हुआ है। हाल ही में एक समलैंगिक युवक (Gay Man) को तालिबानियों (Talibani) की बर्बरता का सामना करना पड़ा। युवक को उसके समलैंगिक होने की वजह से न केवल मारा गया बल्कि उसका रेप (Rape) भी हुआ। पीड़ित की पहचान नहीं हो सकी है।

डेलीमेल की रिपोर्ट के मुताबिक, समलैंगिक युवक डर की वजह से काबुल में छिपा हुआ था, लेकिन 2 तालिबानियों ने उससे दोस्त बनकर बाहर निकलने को कहा। साथ ही आश्वसान दिया कि वो उसे मुल्क से बाहर भेजेंगे। हालांकि, जब युवक तालिबानियों से मिला तो उन्होंने उसके साथ मारपीट कर उसका रेप किया और बाद में उस युवक के पिता का नंबर लेकर उन्हें बताया कि उनका बेटा ‘गे’ है।

पीड़ित युवक के साथ हुई इस घटना के बारे में अफगान राइट्स एक्टिविस्ट अर्तमिस अकबरी ने सूचना दी है। वह अभी तुर्की में रहते हैं और युवक से संपर्क में हैं। अफगानिस्तान में तालिबान की बर्बरता का ताजा उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि ये हमला सिर्फ एक उदाहरण है कि आखिर तालिबान शासन में समलैंगिक लोगों का जीवन कैसा होगा।

अर्तमिस अकबरी ने कहा कि तालिबानी बस दुनिया को बताना चाहते हैं कि हम बदल गए और हमें महिला अधिकार और मानवाधिकारों से कोई आपत्ति नहीं है। वो झूठ बोल रहे हैं। तालिबान नहीं बदला है क्योंकि उनकी विचारधारा नहीं बदली है। मेरे दोस्त अफगानिस्तान में डरे हुए हैं। उन्हें नहीं पता कि उनके साथ भविष्य में क्या होगा, तो वो बस खुद को छिपाने का प्रयास कर रहे हैं।

बता दें कि अभी कुछ दिनों पहले अफगान की एक पूर्व जज नजला (जो अब यूएस में रहती हैं) ने बताया था कि तालिबान ने कैसे एक महिला को आग के हवाले कर दिया था क्योंकि उन्हें महिला के हाथ का बना खाना पसंद नहीं आ रहा था। इसके अलावा अलावा उन्होंने बताया था कि अफगान में महिलाओं को ताबूत में बंद करके सेक्स स्लेव बनाकर विदेश भेजा जा रहा है।