मुंबई । बॉलीवुड अभिनेता अक्षय खन्ना जब 20 साल के थे, तभी से ही उनके बाल झड़ने शुरू हो गए थे। उन्होंने कभी भी अपने बॉल्ड लुक को छिपाने के लिए विग या किसी तरह की टोपी का इस्तेमाल नहीं किया। आम तौर पर उन्होंने मीडिया से भी इस बारे में कभी बात नहीं की। गंजेपन की इस समस्या से जूझ रहे अक्षय का आत्मविश्वास टूट रहा था, लेकिन उन्होंने अपने ऐक्टिंग स्किल पर मेहनत करना कम नहीं किया। अक्षय बताते हैं, 'मेरे साथ बाल झड़ने की समस्या एकदम यंग एज में शुरू हो गई थी, मेरे लिए यह ठीक उसी तरह था, जैसे एक पियानो बजाने वाले कलाकार की उंगलियां खत्म हो रही हों या सुबह उठने पर, जब कोई न्यूज़ पेपर पढ़ने की कोशिश करे और उसे पढ़ने में अचानक दिक्कत हो, साफ देखने के लिए उसे चश्मे की जरूरत पड़े।'अक्षय आगे कहते बताते हैं, 'हालांकि समय के साथ वह अपनी इस तरह की कमियों से होने वाली हीं भावना की सोच धीरे-धीरे खत्म हो जाती है, जैसे अब मैं अपने बॉल्ड लुक से परेशान नहीं होता हूं। जरा सोचिए, अगर कोई स्पोर्ट्समैन हो और उसे अचानक पता चले की उसके घुटने काम नहीं कर रहे और उसे सर्जरी की जरूरत है, यह ख्याल दिल टूटने की तरह है, क्या पता इस घटना से कितने साल तक उस खिलाड़ी को अपने खेल से दूर रहना पड़े। ठीक इसी तरह एक ऐक्टर के लिए उसका लुक बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, खासतौर से चेहरे का पार्ट, अगर यह शरीर की बात होती तो उसे किसी तरह छुपाया जा सकता था, लेकिन चेहरा और सर, वह भी 20 साल की उम्र में बालों का झड़ना, बॉल्ड लुक का आना आपको मेंटली मार डालता है।' आपने कभी अपने इस लुक को छिपाने की या कवर करने की कोशिश नहीं की, बहुत से ऐक्टर हैं, जो आज भी पाने बॉल्ड लुक को कवर करते हैं? जवाब में अक्षय कहते हैं, 'इस मामले में सबकी अपनी चॉइस है, एक यंग ऐक्टर होने के कारण बॉल्ड होने की वजह से मेरा सेल्फ कॉन्फिडेंस बहुत ज्यादा इफेक्ट हुआ है।'