सूरत | शहर के पांडेसरा क्षेत्र में रेल टिकट की कालाबाजारी करते दो शख्सों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है| पकड़े गए दोनों शख्स मजबूर प्रवासी श्रमिकों से रु. 600 कीमत का रेल टिकट के रु. 3000 वसूल रहे थे| 
गुजरात में बसे प्रवासी श्रमिकों को धैर्य जवाब देने लगा है और राज्य के कई शहरों में पुलिस के साथ झडप की घटनाएं सामने आ चुकी हैं| किसी भी कीमत पर प्रवासी श्रमिक अपने गृह राज्य लौटना चाहते हैं और इसके लिए वह मुंहमांगे दाम देने को तैयार हैं| सूरत में ऐसे प्रवासी श्रमिकों की मजबूरी का फायदा उठाने वाले दो शख्सों को पांडेसरा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है| दीनानाथ मौर्य और विनय मौर्या नामक दो शख्स रु. 600 के रेल टिकट रु. 3000 प्रवासी श्रमिकों से वसूलने जा रहे थे| रेल टिकट की कालाबाजारी कर रहे दो शख्सों को स्थानीय लोगों ने दबोच लिया और पांडेसरा पुलिस के हवाले कर दिया| दरअसल सूरत के पांडेसरा क्षेत्र के गणपतनगर में रह रहे कई प्रवासी श्रमिक उत्तर प्रदेश जाना चाहते हैं और उसके लिए उन्होंने पंजीकरण भी करवा दिया है| कई लोगों ने रु. 600 से रु. 810 रुपए का भुगतान भी कर दिया है| इसके बावजूद न तो उन्हें टिकट मिला है और न ही कोई सूचना मिली है कि ट्रेन कब जाएगी| ऐसे श्रमिकों की मजबूरी का फायदा उठाते हुए दो शख्सों ने टिकट के लिए बुलाया था और कहा था कि वह ज्यादा रुपए देंगे तो उन्हें तत्काल टिकट मिल जाएगा|