उत्तर प्रदेश में यूपी टीईटी का पेपर लीक होने के बाद शासन-प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। सीएम योगी ने मामले का संज्ञान लेते हुए तत्काल ही आरोपियों की संपत्ति जब्त करने और गिरफ्तारी के आदेश पारित किए थे। जिसके बाद यूपी पुलिस सरकार के निर्देश पर ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है। दरअसल, गाजीपुर में सामूहिक नकल कराने और पेपर लीक आदि के जुर्म में शिक्षा माफिया महेंद्र कुशवाहा की प्रॉपर्टी को प्रशासन ने रविवार को मुनादी करने के बाद सीज कर लिया। सीज की गई प्रॉपर्टी की कुल कीमत 4 करोड़ 80 लाख आंकी गई है। आपको बता दें कि ये कार्रवाई गैंगस्टर एक्ट के अंतर्गत की गई है।

गाजीपुर में हुई बड़ी कार्रवाई

             आपको अवगत कराते चलें कि जिस दिन टीईटी परीक्षा रद्द हुई थी, उसी दिन सीएम योगी आदित्यनाथ ने देवरिया में बड़ा बयान दिया था। उन्होंने सीएम योगी ने कहा कि पेपर लीक करने वाले गिरोह के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई होगी। उनकी संपत्ति जब्त की जाएगी। इसी क्रम में यूपी पुलिस सबसे पहले ये कार्रवाई गाजीपुर में की। जहां महेंद्र कुशवाहा की प्रॉपर्टी कुर्क किए जाने को लेकर सीओ सिटी ओजस्वी चावला ने बताया कि शिक्षा माफिया महेंद्र कुशवाहा के खिलाफ सामूहिक नकल पेपर लीक करने आदि को लेकर सदर कोतवाली में मुकदमा कायम किया गया था।

4 करोड़ 80 लाख आंकी गई संपत्ति

               जिलाधिकारी ने गैंगस्टर एक्ट के तहत की धारा 14 (1) के तहत महेंद्र कुशवाहा की प्रॉपर्टी को सीज करने का आदेश निर्गत किया है। जिसके अनुपालन के क्रम में रविवार को मुनादी कर शिक्षा माफिया कुशवाहा की प्रॉपर्टी सीज की गई है। सब रजिस्ट्रार की रिपोर्ट के अनुसार इस संपत्ति की कुल कीमत 4 करोड़ 80 लाख आंकी गई है।

भाइयों पर हो चुकी है कार्रवाई

              बता दें कि इससे पहले भी महेंद्र कुशवाहा के भाई की संपत्ति भी सामूहिक नकल कराने पेपर आउट आदि करने के अपराध में दर्ज गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे के तहत सीज गई थी। कुशवाहा बंधुओं के उस समय सुर्खियां बटोरी, जब एक बार उन्होंने TET का पेपर आउट कर दिया था। जिसमें कुशवाहा बंधुओं में से एक पारस कुशवाहा को जेल भी जाना पड़ा था। बावजूद इसके लगातार ये लोग वही काम कर रहे थे।