Close X

Unnao केस में नया मोड़, पिता की तहरीर पर पुलिस ने दर्ज किया हत्या का केस

यूपी के उन्नाव जिले के असोहा थाना क्षेत्र में बुधवार को दो किशोरियों की मौत के मामले में पुलिस ने पिता की तहरीर पर हत्या का केस दर्ज किया है। बबुरहा के मजरा पाठकपुर में किशोरियों की मौत के मामले में पुलिस ने एक किशोरी के पिता की तहरीर पर हत्या व शव छिपाने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। एसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। असोहा के बबुरहा के मजरा पाठकपुर निवासी सूरज रावत ने बताया कि बुधवार शाम जब वह खेत से काम कर घर लौटा था तब पत्नी बिटोला ने बताया कि बेटी और परिवार की दो लड़ियां खेत से नहीं लौटी है। पत्नी की सूचना पर उसने बेटियों की खोजबीन शुरू की। एक घंटे की खोजबीन के बाद तीनों बेटियां भाई सूर्यबली के खेतों में अचेत हालत में मिली थी। दो के गले में दुपट्टा कसा था जबकि तीनों के मुंह से झाग निकल रहा था। गांव के पूर्व प्रधान केवनी के भाई की कार से तीनों लड़कियों को पहले नर्सिंग होम और बाद में असोहा सीएचसी लाया गया था। जहां चिकित्सकों ने दो को मृत घोषित कर दिया था। जबकि तीसरी किशोरी को कानपुर रेफर कर दिया गया था। पुलिस की छह टीमें कर रही उन्नाव केस की जांच : डीजीपी डीजीपी एचसी अवस्थी ने कहा है कि उन्नाव में हुई घटना की जांच के लिए पुलिस की छह टीमें गठित की गई हैं। सभी टीमें वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के पर्यवेक्षण में काम कर रही हैं। प्रशासन एवं स्वास्थ्य समेत अन्य संबंधित विभागों के साथ लगातार समन्वय स्थापित करके विधिक कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि तीनों बच्चियां पशुओं का चारा लेने गई थीं और अपने ही खेत में बेहोशी की हालत में पाई गई थीं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र असोहा पर दो बच्चियों को मृत घोषित कर दिया गया। एक अन्य की हालत गंभीर होने के कारण डॉक्टरों ने उन्नाव रेफर कर दिया गया था, बाद में बेहतर इलाज के लिए उसे कानपुर रेफर कर दिया गया। तीसरी बच्ची की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। डॉक्टरों ने जहरखुरानी का संदेह जताया है। दोनों मृत बच्चियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। उनकी शरीर पर किसी भी तरह की बाहरी या आंतरिक चोट के निशान नहीं पाए गए हैं। पोस्टमार्टम डॉक्टरों के पैनल द्वारा किया गया है। जांच के लिए बिसरा सुरक्षित रखा गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खाने में जहर की बात आई थी सामने उन्नाव की दोनों किशोरियों की पोस्टर्माटम रिपोर्ट में जहरीले पदार्थ के सेवन करने की बात सामने आई थी। मृत पाई गई दोनों लड़कियों के पोस्‍टमार्टम के लिए प्रशासन ने चार डॉक्‍टरों का पैनल बनाया था। चार पैनल वाली डॉक्टरों की टीम का कहना था कि दोनों किशोरियों की मौत जहरीला पदार्थ का खाना खाने से हुई है। दोनों ने मौत से करीब 6 घंटे पहले खाना खाया था। दोनों के पेट में 100 से लेकर 80 ग्राम तक खाना मिला है। खाने में जहर होने की वजह से मौत हो हुई थी। मृत लड़कियों के शरीर पर चोट का कोई निशान नहीं मिला है। जहरीले पदार्थ के सैंपल की कराई जाएगी जांच उन्नाव की मृत दोनों लड़कियों के पोस्टमार्टम के दौरान शरीर में मिले जहरीले पदार्थ के सैंपल की जांच कराई जाएगी। पुलिस ने बताया कि सैंपल को जांच के लिए लैब भेजा जाएगा। एसपी ने बताया कि एफएसएल टीम को बुलाया है, जो घटनास्थल का रिक्रिएशन कर जांच को आगे बढ़ाएगी। सीएम ने डीजीपी से तलब की रिपोर्ट यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्नाव की घटना का संज्ञान लेते हुए पुलिस महानिदेशक को प्रकरण की पूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं। सरकारी प्रवक्‍ता के अनुसार मुख्यमंत्री ने कहा है कि अस्पताल में भर्ती पीड़िता का सरकारी व्यय पर बेहतर से बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने पीड़िता के निःशुल्क इलाज की व्यवस्था करने के निर्देश दिये हैं। यूपी मानवाधिकार आयोग ने मांगी रिपोर्ट उत्तर प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने उन्नाव जिले के असोहा थाना क्षेत्र में हुई घटना से संबंधित मीडिया की रिपोर्ट्स का स्वत: संज्ञान लेते हुए एसपी से रिपोर्ट मांगी है। आयोग ने पूरे मामले की जांच कराकर दो हफ्ते में अपनी रिपोर्ट आयोग के सामने पेश करने के निर्देश दिए हैं। आयोग के सदस्य न्यायमूर्ति केपी सिंह ने इस घटना को प्रथमदृष्ट्या मानवाधिकार के हनन का प्रत्यक्ष उदाहरण माना है। इस घटना में बुआ-भतीजी की मौत हो गई है, जबकि एक अन्य की हालत नाजुक है। तीनों पशुओं का चारा लाने के लिए दोपहर में घर से निकली थीं। देर शाम तक वापस न आने पर परिवारीजन तलाश में जुटे तो तीनों अचेतावस्था में खेत में पड़ी मिलीं। बाद में इनमें से दो की मौत हो गई।

अन्य वीडियो