एसएसपी प्रभाकर चौधरी…… एक ऐसा नाम, जिसकी कार्यशैली से हर वो पुलिसकर्मी डरता है जो भ्रष्टाचार में लिप्त होता है। दरअसल ऐसा इसलिए है क्योंकि ये जहां भी जाते हैं, लापरवाह पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करते रहते हैं। फिलहाल इनकी तैनाती आगरा में है, जहां भ्रष्टाचार के मामले में दरोगा के निलंबन के 24 घंटे के अंदर पुलिसकर्मियों पर दूसरी कार्रवाई की गई है। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने चार सिपाहियों को हटाकर लाइन भेज दिया है। एसएसपी की इस कार्रवाई से महकमे में हड़कंप मच गया है।

सीओ से कराई गई थी जांच

जानकारी के मुताबिक एसएसपी ने आगरा जिले में भ्रष्टाचारी और लापरवाह पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक अभियान चलाया है। जिसके अंतर्गत हाल ही ने सीओ छत्ता कार्यालय में तैनात पुलिसकर्मियों की शिकायत मिली थी। इन सभी पर आरोप लगा था कि वो गोपनीय सूचनाएं लीक करते हैं। मुकदमों की विवेचनाओं से संबंधित जानकारी अन्य को देते हैं। सीओ छत्ता से जांच कराई गई। जांच में आरोपी की पुष्टि हो गई।

आरोप की पुष्टि होते ही एसएसपी ने सीओ कार्यालय के पेशकार जीवन सिंह, मुंशी देवेंद्र, मनोज कुमार और रघुवीर को लाइन हाजिर कर दिया है। उन्हें विशेष प्रशिक्षण में लगाया गया है। यह कार्रवाई थाना एत्माददौला में तैनात दरोगा मनवीर सिंह के निलंबन के 24 घंटे के अंदर की गई है।

दी जाएगी कंप्यूटर की ट्रेनिंग

गौरतलब है कि इससे पहले एसएसपी ने जिले में थानेदारों के 38 कारखासों को हटाया था। उन्हें लाइन में विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है। सीओ छत्ता कार्यालय से हटाए गए चारों पुलिसकर्मियों को भी इसमें लगाया गया है। वह सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक प्रशिक्षण में रहेंगे। इसमें आईपीसी, सीआरपीसी सहित अन्य कानूनी जानकारी दी जाएगी। इन्हें कंप्यूटर की भी ट्रेनिंग दी जाएगी